HomeIndiaऐसे माहौल में हुई थी CDS बिपिन रावत की परवरिश, फिर NDA...

ऐसे माहौल में हुई थी CDS बिपिन रावत की परवरिश, फिर NDA ज्वाइन कर सेना में हुए शामिल

Published on

जैसा की सब जानते हैं चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ (CDS) बिपिन रावत को ले जा रहा वायुसेना का हेलिकॉप्टर तमिलनाडु के कुन्नूर में क्रैश हो गया, जिसमें बिपिन रावत और उनकी पत्नी समेत सभी 13 लोगों का निधन हो गया।हेलिकॉप्टर में सीडीएस बिपिन रावत अपनी पत्नी मधुलिका रावत और  सेना के कुछ सीनियर अधिकारियों के साथ सवार थे। निधन की खबर के बाद पूरे देश में सनसनी फैल गई और सब जगह दुख का माहौल है।

जनरल बिपिन रावत का जन्म 1958 में पौढ़ी गड़वाल के लैंसडाउन के साइना गांव में हुआ। बिपिन रावत के पिता खुद लेफ्टिनेंट जनरल थे और इस लिहाज से बिपिन रावत की परवरिश सैन्य माहौल में हुई। बिपिन रावत की शिक्षा देहरादून के लेंबरियन हॉल स्कूल और शिमला के एडवर्ड्स स्कूल से हुई।

ऐसे माहौल में हुई थी CDS बिपिन रावत की परवरिश, फिर NDA ज्वाइन कर सेना में हुए शामिल

पढ़ाई पूरी करने के बाद ही चूंकि उनका ध्येय साफ था इसलिए उन्होंने तुरंत NDA ज्वाइन किया और सेना में शामिल हो गए। दिसंबर 1978 में बिपिन रावत भारतीय सैन्य अकादमी, देहरादून से ग्यारह गोरखा राइफल्स की पांचवीं बटालियन में नियुक्त किए गए। यहां उन्हें ‘स्वॉर्ड ऑफ़ ऑनर ‘से भी नवाजा गया। 

ऐसे माहौल में हुई थी CDS बिपिन रावत की परवरिश, फिर NDA ज्वाइन कर सेना में हुए शामिल

बता दें कि 1 जनवरी 2020 को देश में पहली बार CDS की नियुक्ति हुई और जनरल बिपिन रावत देश के पहले सीडीएस नियुक्त किए गए। इससे पहले वह 27वें थल सेनाध्यक्ष थे और 2016 में उन्होंने आर्मी चीफ के पद को भी संभाला था। 

ऐसे माहौल में हुई थी CDS बिपिन रावत की परवरिश, फिर NDA ज्वाइन कर सेना में हुए शामिल

परिवार की बात करें तो जनरल बिपिन रावत के साथ ही उनकी पत्नी मधुलिका रावत का भी निधन हो गया है। मधुलिका रावत AWWA यानी आर्मी वाइव्स वेलफेयर एसोसिएशन की अध्यक्ष थी और शहीदों के आश्रितों की भलाई के अभियान में पूरी शिद्दत से सक्रिय रहती थीं।

ऐसे माहौल में हुई थी CDS बिपिन रावत की परवरिश, फिर NDA ज्वाइन कर सेना में हुए शामिल

बताया जाता है कि जनरल बिपिन रावत और मधुलिका रावत की दो बेटियां है। बड़ी बेटी का नाम कृतिका रावत जबकि दूसरी बेटी का नाम तारिणी बताया गया है। कृतिका की शादी मुंबई में हुई है और वो वहीं रहती हैं। तारिणी अभी पढ़ाई कर रही हैं।

Latest articles

श्री राम नाम से चली सरकार भूले तुलसी का विचार और जनता को मिला केवल अंधकार (#_बजट): भारत अशोक अरोड़ा

खट्टर सरकार ने आज राज्य के लिए आम बजट पेश किया इस दौरान सीएम...

अरूणाभा वेलफेयर सोसायटी , फरीदाबाद द्वारा आयोजित हुआ दो दिवसीय बसंतोत्सव

अरूणाभा वेलफेयर सोसायटी , फरीदाबाद द्वारा आयोजित दो दिवसीय बसंतोत्सव के शुभ अवसर पर...

आखिर क्यों बना Haryana के टीचर का फॉर्म हाउस पूरे प्रदेश में चर्चा का विषय, यहां पढ़ें पूरी ख़बर

आज के समय में फॉर्म हाउस बनाना कोई बड़ी बात नहीं है, लेकिन हरियाणा...

Faridabad का ये किसान थोड़ी सी समझदारी से आज कमा रहा लाखों, यहां जानें कैसे

आज के समय में देश के युवा शिक्षा, स्वास्थ आदि क्षेत्रों के साथ साथ...

More like this

श्री राम नाम से चली सरकार भूले तुलसी का विचार और जनता को मिला केवल अंधकार (#_बजट): भारत अशोक अरोड़ा

खट्टर सरकार ने आज राज्य के लिए आम बजट पेश किया इस दौरान सीएम...

अरूणाभा वेलफेयर सोसायटी , फरीदाबाद द्वारा आयोजित हुआ दो दिवसीय बसंतोत्सव

अरूणाभा वेलफेयर सोसायटी , फरीदाबाद द्वारा आयोजित दो दिवसीय बसंतोत्सव के शुभ अवसर पर...

आखिर क्यों बना Haryana के टीचर का फॉर्म हाउस पूरे प्रदेश में चर्चा का विषय, यहां पढ़ें पूरी ख़बर

आज के समय में फॉर्म हाउस बनाना कोई बड़ी बात नहीं है, लेकिन हरियाणा...