HomeUncategorizedहेलीकॉप्टर क्रैश में एकमात्र बचे ग्रुप कैप्टन वरुण सिंह का लेटर...

हेलीकॉप्टर क्रैश में एकमात्र बचे ग्रुप कैप्टन वरुण सिंह का लेटर हुआ वायरल, लिखा…

Published on

जैसा की आप सभी को पता ही है कि तमिलनाडु में अभी एक हेलीकॉप्टर क्रैश हुआ था। जिसमें हमारे सीडीएस बिपिन रावत सहित 13 लोग सवार थे। उसमें से 13 लोगो ने शरीर छोड़ दिए। उसमे से जो  एकमात्र जीवित बचे हैं वह है ग्रुप कैप्टन वरुण सिंह। उनका एक पत्र सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो रहा है, जिसके बारे में हम आपको बताएंगे।

कैप्टन वरुण सिंह का एक पत्र सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो रहा है। उन्होंने यह पत्र अपने स्कूल के प्रिंसिपल को तब दिया था जब उन्हें शौर्य चक्र से सम्मानित किया गया था। हरियाणा के चंडी मंदिर में आर्मी पब्लिक स्कूल के प्रिंसिपल को लिखे पत्र में ग्रुप कैप्टन वरुण सिंह ने छात्रों से कहा कि“औसत दर्जे का होना ठीक है”।

हेलीकॉप्टर क्रैश में एकमात्र बचे ग्रुप कैप्टन वरुण सिंह का लेटर हुआ वायरल, लिखा…

कैप्टन सिंह उसी हेलीकॉप्टर को उड़ा रहे थे जिसमें सीडीएस जनरल बिपिन रावत और उनकी पत्नी समेत 13 जवानों की हेलीकॉप्टर दुर्घटना में मौत हो गई थी। स्कूल के प्रिंसिपल को लिखे पत्र में ग्रुप कैप्टन वरुण सिंह ने कहा, “औसत दर्जे का होना ठीक है। हर कोई स्कूल में उत्कृष्ट नहीं होता है और हर कोई 90% स्कोर नहीं करता है। यदि आप ऐसा कर सकते हैं तो यह एक उपलब्धि है और इसकी सराहना की जानी चाहिए।

हेलीकॉप्टर क्रैश में एकमात्र बचे ग्रुप कैप्टन वरुण सिंह का लेटर हुआ वायरल, लिखा…

इस मोटिवेशनल पत्र में कैप्टन वरुण सिंह ने आगे लिखा, ‘लेकिन अगर आप ऐसा नहीं कर सकते तो ये मत सोचना कि आप औसत दर्जे के बने हैं। आप स्कूल में औसत दर्जे के हो सकते हैं लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि जीवन में चीजें समान होंगी… अपने दिल की सुनो। यह कला हो सकती है, यह संगीत, ग्राफिक डिजाइन, साहित्य आदि हो सकती है। आप जो भी काम करते हैं उसके लिए समर्पित रहें, अपना सर्वश्रेष्ठ दें। कभी भी यह सोचकर बिस्तर पर न जाएं कि आप कम प्रयास करते हैं और अधिक कर सकते थे।

हेलीकॉप्टर क्रैश में एकमात्र बचे ग्रुप कैप्टन वरुण सिंह का लेटर हुआ वायरल, लिखा…

पत्र में उन्होंने आगे लिखा, ‘राष्ट्रीय रक्षा अकादमी में कैडेट के रूप में, मैंने पढ़ाई या खेल में उत्कृष्ट प्रदर्शन नहीं किया। जब मैं एएफए में पहुंचा, तो मुझे एहसास हुआ कि मैं हवाई जहाजों के अपने जुनून के कारण अपने साथियों से काफी आगे हूं, लेकिन फिर भी मुझे अपनी क्षमताओं पर भरोसा नहीं था। स्कूल को मिले शौर्य चक्र का श्रेय देते हुए उन्होंने कहा कि अपने शिक्षकों और साथियों द्वारा संवारने के कारण आज उन्हें यह पुरस्कार प्राप्त हुआ है।

हेलीकॉप्टर क्रैश में एकमात्र बचे ग्रुप कैप्टन वरुण सिंह का लेटर हुआ वायरल, लिखा…

Latest articles

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है: कशीना

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है, इसका संबंध...

भाजपा के जुमले इस चुनाव में नहीं चल रहे हैं: NIT विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा

एनआईटी विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा ने बताया कि फरीदाबाद लोकसभा सीट से पूर्व...

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती – रेणु भाटिया (हरियाणा महिला आयोग की Chairperson)

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती। इसके लिए मैं कुछ भी...

More like this

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है: कशीना

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है, इसका संबंध...

भाजपा के जुमले इस चुनाव में नहीं चल रहे हैं: NIT विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा

एनआईटी विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा ने बताया कि फरीदाबाद लोकसभा सीट से पूर्व...