Homeशुरुवाती दौर में निर्माताओं की शर्तों पर काम करना पड़ा था धर्मेन्द्र...

शुरुवाती दौर में निर्माताओं की शर्तों पर काम करना पड़ा था धर्मेन्द्र को, ये है एक किस्सा

Array

Published on

हिंदी सिनेमा के सबसे हैंडसम एक्टर धर्मेंद्र को किसी पहचान की जरूरत नहीं है। बॉलीवुड के हीमैन कहे जाने वाले धर्मेंद्र के आज भी लोग दीवाने हैं। हमेशा उनके बारे में जानने के लिए बेताब रहते हैं। ऐसे में आज हम आपको धर्मेंद्र की दिलदारी से जुड़ा एक किस्सा बता रहे हैं। जिसमें वो एक शर्त के कारण अपनी पूरी कमाई प्रोड्यूसर्स को देने के लिए तैयार हो गए थे।

ऐसा कई बार इंडस्ट्री में देखने को मिलता है कि एक्टर और प्रोड्यूसर्स की लड़ाई हो जाती है। उस समय एक टैलेंट हंट प्रतियोगिता के माध्यम से धर्मेंद्र ने बॉलीवुड में एंट्री की थी।

शुरुवाती दौर में निर्माताओं की शर्तों पर काम करना पड़ा था धर्मेन्द्र को, ये है एक किस्सा

उसके बाद जो हुआ वह इतिहास है। एक्टिंग प्रतियोगिता जीतने के बाद उन्हें गुरुदत्त, विमल रॉय जैसे बड़े निर्माताओं ने अपनी फिल्मों के लिए साइन भी कर लिया था। लेकिन एक्टिंग करने को बेताब धर्मेंद्र को उनकी पहली फिल्म मिली ‘दिल भी तेरा, हम भी तेरे। जिसके जवाब में धर्मेंद्र ने कहा था कि ‘अंजाम क्या होना है। दोनों को कमाई का आधा आधा हिस्सा दे दूंगा।

शुरुवाती दौर में निर्माताओं की शर्तों पर काम करना पड़ा था धर्मेन्द्र को, ये है एक किस्सा

उस समय इंडस्ट्री में ऐसी शर्ते आती ही रहती थीं कि कमाई का हिस्सा आपको बाटना पड़ता था। ऐसे ही जब उनसे कहा गया कि उनके पास भी तो कुछ पैसे बचने चाहिए तब धर्मेंद्र ने कहा था, ‘मुझे तो बस फिल्मों में काम करना है, पैसे नहीं बचे तो भी क्या हुआ। फिल्म तो बनकर रिलीज हो जाएगी। इस तरह शुरूआत में बिना पैसो की परवाह किए फिल्में कीं।

इस हीरोइन की वजह से फ्लॉप हुई थी डेब्यू फ़िल्म, धर्मेंद्र ने 58 साल बाद खोला राज़

धर्मेंद्र ने अपने करियर में कई सुपरहिट फ़िल्में दी हैं। उनकी गिनती बेस्ट एक्टर में की जाती है। धर्मेंद्र की पहली फिल्म ‘दिल भी तेरा हम भी तेरे’ साल 1960 में और दूसरी ‘शोला और शबनम’ इसके अगले ही साल आई थी।

Latest articles

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती – रेणु भाटिया (हरियाणा महिला आयोग की Chairperson)

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती। इसके लिए मैं कुछ भी...

नृत्य मेरे लिए पूजा के योग्य है: कशीना

एक शिक्षक के रूप में होने और MRIS 14( मानव रचना इंटरनेशनल स्कूल सेक्टर...

महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस पर रक्तदान कर बनें पुण्य के भागी : भारत अरोड़ा

श्री महारानी वैष्णव देवी मंदिर संस्थान द्वारा महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस के...

More like this

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती – रेणु भाटिया (हरियाणा महिला आयोग की Chairperson)

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती। इसके लिए मैं कुछ भी...

नृत्य मेरे लिए पूजा के योग्य है: कशीना

एक शिक्षक के रूप में होने और MRIS 14( मानव रचना इंटरनेशनल स्कूल सेक्टर...