HomeIndiaसुल्तान के बेटे मुर्राह चांद की कीमत पहुँची करोड़ो में, पालने में...

सुल्तान के बेटे मुर्राह चांद की कीमत पहुँची करोड़ो में, पालने में रोजाना खर्च होते हैं हजारों

Published on

पशुपालन वैसे तो अच्छी आदत है लेकिन यह आदत जब आमदनी और कमाने का जरिया बन जाए तो सोने पर सुहागा हो जाता है आपने सुल्तान झोटा का नाम तो सुना ही होगा मुर्राह जाति का एक ऐसा झोटा जिसने पूरे हरियाणा में अपना नाम कमाया और कई प्रतियोगिताओं के खिताब को अपने नाम किए उसी सिलसिले में सुल्तान झोटे का बेटा मुर्राह चांद भी अपना नाम कमा रहा है।

चांद के मालिक प्रदीप की पशु पालने का शौक था यह शौक से अच्छी नस्ल के पशुओं को तैयार करने मैं बदल गया उसके बाद सौदा पुर गांव के मराठा प्रदीप रोड ने अपने शौक को पूरा करने के लिए नौकरी छोड़ दी बाद में यह शौक पशुपालन में बदलकर अच्छी नस्ल के पशु तैयार करने में बदलता चला गया और अभी प्रदीप कटरा पंजाब में एक चैंपियनशिप जीतकर आया है

सुल्तान के बेटे मुर्राह चांद की कीमत पहुँची करोड़ो में, पालने में रोजाना खर्च होते हैं हजारों
सुल्तान के बेटे मुर्राह चांद की कीमत पहुँची करोड़ो में, पालने में रोजाना खर्च होते हैं हजारों

मुर्राह झोटा चांद की कीमत अभी तक करोड़ों में मानी जा रही है वहीं चांद का पिता सुल्तान की कीमत ₹210000000 थी प्रदीप ने चांद को इस कदर ट्रेनिंग दी है कि चांद प्रदीप की एक आवाज सुनते ही रसोई तक आ जाता है चांद को उठाने बैठने में एक जगह करने के लिए प्रदीप का एक इशारा ही काफी होता है पंजाब के जगराओं मंडी में आयोजित पीडीएफ ए इंटरनेशनल डेरी व एग्री एक्सपोर्ट चैंपियनशिप में लगभग 3000 प्रतियोगिता भाग लेने आए थे लेकिन चांद सबसे कम उम्र का होने के बाद भी इस प्रतियोगिता का विजेता रहा

सुल्तान के बेटे मुर्राह चांद की कीमत पहुँची करोड़ो में, पालने में रोजाना खर्च होते हैं हजारों

इससे पहले भी चांद कई प्रतियोगिताएं जीत चुका है कि 2 वर्ष 9 माह की आयु में महिला जिला फतेहाबाद में आयोजित राष्ट्र स्तरीय पशु प्रदर्शनी में 2 से 4 दांत कैटेगरी में हिस्सा लिया पुरानी नहीं तो इसमें छह सौ से ज्यादा पशुओं ने हिस्सा लिया और इसमें भी चांद ने अपनी जीत का परचम लहराया

चांद को रोजाना चने का आटा गेहूं बिनोला खल हरी सब्जी व चारा खिलाते हैं इसके अलावा वह रोजाना 5 लीटर दूध पीता है खाने की डाइट में दिनचर्या पशु चिकित्सकों की सलाह के अनुसार चलती है शाम हर रोज 5 किलोमीटर की सैर करता है और रोज 2000 करीबन इस पर खर्च हो जाते हैं

Latest articles

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती – रेणु भाटिया (हरियाणा महिला आयोग की Chairperson)

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती। इसके लिए मैं कुछ भी...

नृत्य मेरे लिए पूजा के योग्य है: कशीना

एक शिक्षक के रूप में होने और MRIS 14( मानव रचना इंटरनेशनल स्कूल सेक्टर...

महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस पर रक्तदान कर बनें पुण्य के भागी : भारत अरोड़ा

श्री महारानी वैष्णव देवी मंदिर संस्थान द्वारा महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस के...

पुलिस का दुरूपयोग कर रही है भाजपा सरकार-विधायक नीरज शर्मा

आज दिनांक 26 फरवरी को एनआईटी फरीदाबाद से विधायक नीरज शर्मा ने बहादुरगढ में...

More like this

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती – रेणु भाटिया (हरियाणा महिला आयोग की Chairperson)

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती। इसके लिए मैं कुछ भी...

नृत्य मेरे लिए पूजा के योग्य है: कशीना

एक शिक्षक के रूप में होने और MRIS 14( मानव रचना इंटरनेशनल स्कूल सेक्टर...

महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस पर रक्तदान कर बनें पुण्य के भागी : भारत अरोड़ा

श्री महारानी वैष्णव देवी मंदिर संस्थान द्वारा महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस के...