HomeEducationसरकार का सुप्रीम कोर्ट में बोर्ड परीक्षाओं को लेकर बड़ा फैसला, जानिए...

सरकार का सुप्रीम कोर्ट में बोर्ड परीक्षाओं को लेकर बड़ा फैसला, जानिए क्या कहा

Published on

कोरोना वायरस भले ही धर्म, जात-पात न देखता हो | लेकिन कोरोना शिक्षा से जुडी चीज़े बखूबी समझ रहा है और परीक्षाओं से लेकर दाखिलों तक मुसीबत बन रहा है | आज सुप्रीम कोर्ट ने सीबीएसई 10वीं और 12वीं की 1 से 15 जुलाई तक होने वाली परीक्षाएं रद्द कर दी हैं। गत दिनों पहले परीक्षाएं रद्द करने को लेकर कुछ अभिभावकों ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की थी | तीन प्रदेशों ने भी कहा था कि राज्यों में कोरोना का प्रसार लगातार बढ़ रहा है, जिसके चलते परीक्षाएं अभी नहीं कराई जा सकती हैं। इसी को लकेर सुप्रीम कोर्ट ने आज सुनवाई की । सुप्रीम कोर्ट ने सीबीएसई से पूछा था कि क्या परीक्षाएं रद्द की जा सकती हैं? बृहस्पतिवार को सॉलिसिटर जनरल ने सुप्रीम कोर्ट में जानकारी देते हुए कहा कि हालात सामान्य होने पर 12वीं के विद्यार्थियों को दोबारा परीक्षा देने का विकल्प मिलेगा।

सरकार का सुप्रीम कोर्ट में बोर्ड परीक्षाओं को लेकर बड़ा फैसला, जानिए क्या कहा

जुलाई से लेकर सितंबर ऐसे महीने होते हैं, जहाँ बच्चे अपने सपने पूरा करने के लिए कॉलेज में दाखिला लेते हैं | लेकिन इस साल कोरोना का काला ग्रहण विद्यार्थियों के सपनों पर पड़ गया है | सॉलिसिटर जनरल ने कहा कि 12वीं के विद्यार्थियों का पिछली तीन परीक्षाओं के आधार पर मूल्यांकन किया जाएगा। अभी बहुत स्कूलों में आइसोलेशन सेंटर चल रहे हैं जिसके चलते परीक्षाएं नहीं कराई जा सकती हैं। इसके अलावा विद्यार्थियों को कुछ महीने बाद होने वाली इंप्रूवमेंट परीक्षा में भी शामिल होने का विकल्प दिया जाएगा। विद्यार्थी चाहें तो इंप्रूवमेंट एग्जाम देकर अपने मार्क्स अच्छे बना सकते हैं। 

दसवीं के छात्रों का तो और भी बुरा हाल है क्यों कि पूरे भारत में लगभग सभी 10वीं की परीक्षाएं हो चुकी हैं | लेकिन फरवरी में हुए दिल्ली दंगों के कारण उत्तर-पूर्वी दिल्ली में 10वीं के एग्जाम नहीं हो सके थे | 10वीं की परीक्षाएं पूरी तरह से रद्द कर दी गई हैं। देश में कहीं भी अब 10वीं की परीक्षाएं नहीं होंगी। दूसरी ओर आईसीएसई बोर्ड ने भी 10वीं और 12वीं की परीक्षाएं पूरी तरह से रद्द कर दी गई हैं। आईसीएसई ने 12वीं के छात्रों को भी कोई विकल्प देने से मना कर दिया है।   

सरकार का सुप्रीम कोर्ट में बोर्ड परीक्षाओं को लेकर बड़ा फैसला, जानिए क्या कहा

कोरोना वायरस किसी का श्राप बन कर दुनिया के सामने आया है | अदृध्य होते हुए भी बड़े से बड़े देश को घुटनों पर ला कर खड़ा कर दिया है महामारी ने | आपको बता दें कि इससे पहले केंद्र सरकार और केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड ने मंगलवार को उच्चतम न्यायालय से कहा था कि बाहरवीं क्लास की बची हुई परीक्षा को रद्द करने का फैसला बृहस्पतिवार को लिया जाएगा। मालूम हो कि एक से 15 जुलाई के बीच होने वाली इन परीक्षाओं को कोरोना के बढ़ते मामलों की वजह से रद्द किया गया है।

Written By – Om Sethi

Latest articles

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती – रेणु भाटिया (हरियाणा महिला आयोग की Chairperson)

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती। इसके लिए मैं कुछ भी...

नृत्य मेरे लिए पूजा के योग्य है: कशीना

एक शिक्षक के रूप में होने और MRIS 14( मानव रचना इंटरनेशनल स्कूल सेक्टर...

महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस पर रक्तदान कर बनें पुण्य के भागी : भारत अरोड़ा

श्री महारानी वैष्णव देवी मंदिर संस्थान द्वारा महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस के...

पुलिस का दुरूपयोग कर रही है भाजपा सरकार-विधायक नीरज शर्मा

आज दिनांक 26 फरवरी को एनआईटी फरीदाबाद से विधायक नीरज शर्मा ने बहादुरगढ में...

More like this

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती – रेणु भाटिया (हरियाणा महिला आयोग की Chairperson)

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती। इसके लिए मैं कुछ भी...

नृत्य मेरे लिए पूजा के योग्य है: कशीना

एक शिक्षक के रूप में होने और MRIS 14( मानव रचना इंटरनेशनल स्कूल सेक्टर...

महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस पर रक्तदान कर बनें पुण्य के भागी : भारत अरोड़ा

श्री महारानी वैष्णव देवी मंदिर संस्थान द्वारा महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस के...