HomeTrendingविवाह की उम्र 21 करने से खाप पंचायत खासा नाराज बोलें, होगा...

विवाह की उम्र 21 करने से खाप पंचायत खासा नाराज बोलें, होगा भाईचारा खराब

Published on

हिंदू मैरिज एक्ट में अब लड़की की विवाह की आयु 21 वर्ष करने से जहां एक तरफ इसकी प्रशंसा हो रही है, तो वहीं दूसरी तरफ हरियाणा के अंतर्गत आने वाले जींद जिले में इस बदलाव से खाप पंचायतों में नाराजगी देखी जा रही है।
इसी कड़ी में 23 दिसंबर को पूर्व प्रधानमंत्री चौ.चरण सिंह की जयंती पर जींद में महापंचायत कर कोई बड़ा फैसला खापों की ओर से लिया जाएगा।

सर्वजातीय सर्वखाप के राष्ट्रीय संयोजक टेकराम कंडेला, जाट धर्मशाला के प्रधान व ढांडा खाप के देवव्रत ढा़ड़ा और संदीप भारती ने सोमवार को अर्बन एस्टेट की जाट धर्मशाला में पत्रकारों से बातचीत में केंद्र के फैसले को समाज विरोधी बताया गया। ढांडा खाप के देवव्रत ढांडा ने कहा कि इसमें सबसे पहला मुद्दा हिंदू मैरिज एक्ट को बदलाव करने का है।

विवाह की उम्र 21 करने से खाप पंचायत खासा नाराज बोलें, होगा भाईचारा खराब

खाप का कहना हैं कि वह पिछले 30 साल से यह मांग करते नहीं रही है कि एक गांव एक गौत्र में शादी किए जाने पर रोक लगाई जाए। अब केंद्र सरकार ने विवाह की उम्र 18 से बढ़ा कर 21 साल की है। 23 दिसंबर को प्रस्तावित महापंचायत में इस पर विचार किया जाएगा और फैसला लेकर प्रस्ताव पास किया जाएगा। इस महापंचायत में सबकी सलाह से इस मुद्दे पर विचार किया जाएगा।

रोहतक में सीएम मनोहर लाल खट्टर के साथ भी बैठक हुई थी, जिसमें माना गया था कि एक गोत्र एक गांव में शादी करना ठीक नहीं है। इसमें बदलाव की जरूरत है। ऐसे करने से आपस में भाईचारा भी बिगड़ता है। ऑनर किलिंग का आरोप भी खाप पंचायतों के सिर मढा जाता है, जबकि खाप पंचायतों ने ऑनर किलिंग का हमेशा विरोध किया है।

विवाह की उम्र 21 करने से खाप पंचायत खासा नाराज बोलें, होगा भाईचारा खराब

खाप का मानना है, वैसे तो 21 साल में शादी का लड़की का अधिकार है, लेकिन 18 साल में शादी के कई बार ऐसे केस सामने आते हैं, जिससे लड़की को परेशानी होती है। हम यही चाहते हैं कि 21 साल के विवाह के निर्णय पर विचार किया जाना चाहिए। कई बार ऐसी परिस्थिति होती है कि लड़की की 16 साल में भी शादी कर दी जानी होती है।

इससे अलग गांव की गांव में शादी होगी तो भाईचारा बिगड़ेगा और विवाद भी बढ़ेगा। अगर आसपास गांव में भी होगी तो भी झगड़ा होगा। सबसे पहले समाज जरूरी है। इसलिए 23 दिसंबर को 36 बिरदारी की पंचायत को बुलाया गया है। इसमें हर जाति की पंचायतें शामिल होंगी। इसका संचालन ढांडा खाप के महासचिव देवव्रत ढांडा करेंगे। 23 दिसंबर को सभी खाप पंचायतों की बैठक में ही ठोस निर्णय लिया जाएगा।

Latest articles

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती – रेणु भाटिया (हरियाणा महिला आयोग की Chairperson)

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती। इसके लिए मैं कुछ भी...

नृत्य मेरे लिए पूजा के योग्य है: कशीना

एक शिक्षक के रूप में होने और MRIS 14( मानव रचना इंटरनेशनल स्कूल सेक्टर...

महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस पर रक्तदान कर बनें पुण्य के भागी : भारत अरोड़ा

श्री महारानी वैष्णव देवी मंदिर संस्थान द्वारा महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस के...

पुलिस का दुरूपयोग कर रही है भाजपा सरकार-विधायक नीरज शर्मा

आज दिनांक 26 फरवरी को एनआईटी फरीदाबाद से विधायक नीरज शर्मा ने बहादुरगढ में...

More like this

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती – रेणु भाटिया (हरियाणा महिला आयोग की Chairperson)

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती। इसके लिए मैं कुछ भी...

नृत्य मेरे लिए पूजा के योग्य है: कशीना

एक शिक्षक के रूप में होने और MRIS 14( मानव रचना इंटरनेशनल स्कूल सेक्टर...

महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस पर रक्तदान कर बनें पुण्य के भागी : भारत अरोड़ा

श्री महारानी वैष्णव देवी मंदिर संस्थान द्वारा महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस के...