Online se Dil tak

हरियाणा से होते हुए दिल्ली से अलवर जाने का सफर होगा अब 70 मिनट में तय, 16 जगहों पर बनेंगे स्टेशन

जैसा कि आप सभी को पता ही है कि, केंद्र इस समय शहरों को एक सूत्र में पिरोने का काम बहुत तेजी से कर रहा है। वह कहीं पर मेट्रो रेल से शहरों को जोड़ रहा है, तो कहीं पर एक्सप्रेस वे बनवा रहा है। इसी कड़ी में अब केंद्र दिल्ली को सीधा अलवर से जोड़ने के लिए रेल योजना सोच रहा है। आप सभी को बता दे कि,  हरियाणा के शहरों को जोड़ने के लिए प्रशासन अब रैपिड रेल कॉरिडोर योजना पर काम शुरू करने वाली है।

आपको बता दें प्रशासन इसलिए दिल्ली से पानीपत और दिल्ली से अलवर रेल कॉरिडोर बनाने की योजना शुरू करने वाली है, जिसके लिए दिल्ली से मेरठ RRTS प्रोजेक्ट के प्रथम चरण का काम शुरू भी कर दिया गया है। दिल्ली  अलवर के बीच RRTS की कुल लंबाई 106 किलोमीटर और दिल्ली पानीपत रेड कॉरिडोर 103.2 किलोमीटर तक रखी जाएगी।

हरियाणा से होते हुए दिल्ली से अलवर जाने का सफर होगा अब 70 मिनट में तय, 16 जगहों पर बनेंगे स्टेशन
हरियाणा से होते हुए दिल्ली से अलवर जाने का सफर होगा अब 70 मिनट में तय, 16 जगहों पर बनेंगे स्टेशन

आपको बता दें यह प्रोजेक्ट पिछले 2 सालों से केंद्र सरकार की मंजूरी की राह देख रहा था। अब इसे मंजूरी मिल चुकी है। आपको यह भी बता दें दिल्ली अलवर रेल कॉरीडोर तीन राज्यों से होकर गुजरेगा। जिसमें दिल्ली हरियाणा और राजस्थान की सीमा शामिल है।

आपको बता दे रेलवे ट्रैक का निर्माण दिल्ली की सीमा में 22 किलोमीटर, हरियाणा में 83 किलोमीटर और राजस्थान में 2 किलोमीटर में किया जाएगा। आप यह भी जान ले,  इस रेल कॉरिडोर का 70.5 किलोमीटर भाग एलिवेटेड होगा और 36 किलोमीटर भाग अंडरग्राउंड तैयार किया जाएगा।

हरियाणा से होते हुए दिल्ली से अलवर जाने का सफर होगा अब 70 मिनट में तय, 16 जगहों पर बनेंगे स्टेशन
हरियाणा से होते हुए दिल्ली से अलवर जाने का सफर होगा अब 70 मिनट में तय, 16 जगहों पर बनेंगे स्टेशन

आपको बता दे इस रेलवे लाइन के बनने के बाद जनता दिल्ली से अलवर का सफर कुल 70 मिनट में तय कर सकेंगे। इस पर ट्रांसपोर्ट निगम के अधिकारी ने जानकारी देते हुए बताया कि दिल्ली- गुरुग्राम- एसएनबी (शाहजहांपुर, निमराणा, बहरोड़ अर्बन कॉम्प्लेक्स) प्रोजेक्ट की DPR को हरियाणा और राजस्थान सरकार द्वारा मंजूरी दी जा चुकी है। लेकिन केन्द्र की आखिरी मंजूरी का इंतजार अभी जारी है।

आपको बता दे, यह योजना फिलहाल प्री-कंस्ट्रक्शन मोड़ पर है और जैसे ही केन्द्र इसकी मंजूरी अदा कर देगा, तो एक महीने के भीतर काम शुरू हो जाएगा।
इस प्रोजेक्ट पर काम कर रहे अधिकारियों का कहना है कि 22 इलेक्ट्रिक हाईटेंशन लाइन जो इस रेल कॉरिडोर के बीच में आ रही है, इन्हें शिफ्ट किया जाएगा।

हरियाणा से होते हुए दिल्ली से अलवर जाने का सफर होगा अब 70 मिनट में तय, 16 जगहों पर बनेंगे स्टेशन
हरियाणा से होते हुए दिल्ली से अलवर जाने का सफर होगा अब 70 मिनट में तय, 16 जगहों पर बनेंगे स्टेशन

आपको बता दे, इनमें से 10 को NCRTC की ओर से शिफ्ट किया जा चुका है। बाकी  बची 12 लाईनों को स्थानीय प्रशासन के सहयोग से पॉवर ग्रिड कारपोरेशन आफ इंडिया के द्वारा शिफ्ट करने का काम जारी है।

सूत्रों के अनुसार 106 किलोमीटर लंबे इस रुट पर 16 स्टेशन बनाएं जाएंगे। यें स्टेशन सराय काले खां, जोरबाग, मुनरिका, एयरो-सिटी, उद्योग विहार, सेक्टर 17, राजीव चौक, खेड़की धौला, मानेसर, पंचगांव, बिलासपुर चौक, धारूहेडा, एमबीआईआर, रेवाड़ी, बाबल और एसएनबी होंगे।

हरियाणा से होते हुए दिल्ली से अलवर जाने का सफर होगा अब 70 मिनट में तय, 16 जगहों पर बनेंगे स्टेशन
हरियाणा से होते हुए दिल्ली से अलवर जाने का सफर होगा अब 70 मिनट में तय, 16 जगहों पर बनेंगे स्टेशन

7 स्टेशन (उद्योग विहार, सेक्टर 17, राजीव चौक, खेड़की धौला, मानेसर, पंचगांव, बिलासपुर चौक) गुरुग्राम में बनाए जाएंगे। इसमें से 2 स्टेशन अंडरग्राउंड होंगे, जबकि बाकी बचे हुए 5 स्टेशन एलिवेटेड होंगे।

Read More

Recent