HomeFaridabadविदेश से फरीदाबाद लौटे युवकों की हुई कोरोना जांच, जिला प्रशासन बरत...

विदेश से फरीदाबाद लौटे युवकों की हुई कोरोना जांच, जिला प्रशासन बरत रहा सतर्कता

Published on

फरीदाबाद में बढ़ रहे कोरोना वायरस के आंकड़ों को देखते हुए जिला प्रशासन किसी भी प्रकार की चूक करने से बच रहा है और कड़े रुख को अपनाकर किसी भी तरह से फरीदाबाद जिले में इन बढ़ते आंकड़ों पर लगाम लगाने के प्रयास कर रहे हैं जिसका सकारात्मक नतीजा ठीक होते हुए मरीजों के रूप में देखने को मिल रहा।

बता दें कि कोरोनावायरस के चलते लगातार विदेश में पढ़ने के लिए एवं अन्य कार्यों से गए हुए भारतीय वापस लौट रहे हैं। जिसके चलते कल कुछ छात्र विदेश से वापस फरीदाबाद लौटे जिनके प्रति सतर्कता बरतते हुए फरीदाबाद जिला प्रशासन द्वारा उनकी तुरंत कोरोनावायरस जांच कराई गई और उन्हें जांच के पश्चात क्वॉरेंटाइन सेंटर भेज दिया गया।

विदेश से फरीदाबाद लौटे युवकों की हुई कोरोना जांच, जिला प्रशासन बरत रहा सतर्कता

बीते गुरुवार 2 जुलाई को यूक्रेन दुबई और कुवैत से तीन भारतीय फरीदाबाद लौटे थे जिन्हें फरीदाबाद जिला प्रशासन के निर्देशानुसार बी के अस्पताल ले जाकर उनकी कोरोना जांच कराई गई और उसके पश्चात उन्हें 14 दिन के लिए परण टाइम पीरियड में रहने के निर्देश दे दिए गए हैं।

इस बारे में जानकारी देते हुए एसएलटी ऋषिराज गौतम ने बताया कि नवनियुक्त सीएमओ रणदीप सिंह पुनिया के निर्देश अनुसार विदेश से लौटे तीनों भारतीय नागरिकों की कोरोनावायरस जांच बादशाह खान सिविल अस्पताल में कराई गई है

विदेश से फरीदाबाद लौटे युवकों की हुई कोरोना जांच, जिला प्रशासन बरत रहा सतर्कता

और इस जांच के पश्चात उन्हें फौरन क्वॉरेंटाइन सेंटर भेज दिया गया है। जहां उन्हें 14 दिनों का क्वॉरेंटाइन पीरियड पूरा करना होगा यदि इस बीच उनमें से किसी व्यक्ति की रिपोर्ट पॉजिटिव आती है तो उसका इलाज फरीदाबाद स्वास्थ्य विभाग की देखरेख में किया जाएगा।

विदेश से फरीदाबाद लौटे युवकों की हुई कोरोना जांच, जिला प्रशासन बरत रहा सतर्कता

बता दें कि इन दिनों फरीदाबाद में कोरोना वायरस के बढ़ते आंकड़ों पर रोक तो नहीं लग पाई है लेकिन स्वस्थ होते मरीजों की संख्या में तेजी से इजाफा जरूर देखने को मिला है जिससे अबतक फरीदाबाद में कुल संक्रमित हुए मरीजों में से करीब तीन हजार संक्रमित मरीज ठीक हो चुके हैं और स्वस्थ होकर अपने घर जा चुके हैं।

Latest articles

हरियाणा के बसई गांव से पहली महिला आईएएस बनी ममता यादव

यूपीएससी क्लियर करना बहुत बड़ी उपलब्धि की श्रेणी में आता है और जब कोई...

हरियाणा के रोल मॉडल बने ये दादा पोती की जोड़ी टीचर दादाजी के सहयोग से 23 साल में ही बनी आईएएस

हमने हमेशा से सुना की एक आदमी के सफलता के पीछे हमेशा एक औरत...

अक्षिता गुप्ता आईएएस बनने से पहले डॉक्टर बनना चाहती थी फिर कुछ ऐसा हुआ की क्लियर कर लिया यूपीएससी

यूपीएससी परीक्षा भारत की सबसे कठिन परीक्षा मानी जाती है जिसने हर साल लाखों...

ग्रेटर फरीदाबाद में कछुये की रफ़्तार से हो रहा है कार्य, कई महीनों से बंद हैं आस-पास के रास्ते

फरीदाबाद में बाईपास रोड पर दिल्ली-मुंबई-वडोदरा-एक्सप्रेसवे के लिंक रोड पर बीपीटीपी एलिवेटेड पुल का...

More like this

हरियाणा के बसई गांव से पहली महिला आईएएस बनी ममता यादव

यूपीएससी क्लियर करना बहुत बड़ी उपलब्धि की श्रेणी में आता है और जब कोई...

हरियाणा के रोल मॉडल बने ये दादा पोती की जोड़ी टीचर दादाजी के सहयोग से 23 साल में ही बनी आईएएस

हमने हमेशा से सुना की एक आदमी के सफलता के पीछे हमेशा एक औरत...

अक्षिता गुप्ता आईएएस बनने से पहले डॉक्टर बनना चाहती थी फिर कुछ ऐसा हुआ की क्लियर कर लिया यूपीएससी

यूपीएससी परीक्षा भारत की सबसे कठिन परीक्षा मानी जाती है जिसने हर साल लाखों...