HomeFaridabadदेशी प्रजाति के पेड़ पौधे अरावली पहाड़ी की बढ़ाएंगे रौनक 

देशी प्रजाति के पेड़ पौधे अरावली पहाड़ी की बढ़ाएंगे रौनक 

Published on

दिल्ली-एनसीआर के शहरों के लिए ऑक्सीजन का केंद्र कहे जाने वाले अरावली वन क्षेत्र में खनन माफियाओं के कारण हरियाली कम हो गई है। अब अरावली बचाओ संस्था के पदाधिकारी अरावली क्षेत्र के सौंदर्यीकरण में जुटे हैं। संगठन के दो दर्जन से अधिक सदस्यों ने पार्सन्स के मंदिर तक लगभग पांच किलोमीटर जाकर पहाड़ी के मूल निवासी पेड़-पौधों के 15,000 से अधिक बीज एकत्र किए हैं।

 

हरा भरा होगा जंगल

देशी प्रजाति के पेड़ पौधे अरावली पहाड़ी की बढ़ाएंगे रौनक 

संस्थान अपनी नर्सरी में बीज बोएगा। फिर इनसे बने पौधों को अरावली वन क्षेत्र में लगाया जाएगा। इसका उद्देश्य अरावली में देशी प्रजातियों के पेड़-पौधों की संख्या में वृद्धि करना है। अरावली में संस्था की ओर से 15 से 20 हजार पौधे रोपे जाते हैं। कई स्थानों पर घना जंगल विकसित हो गया। अरावली पहाड़ी के जंगल औद्योगिक नगरी के लिए फेफड़े का काम करते हैं। इसकी हरियाली दिल्ली और गुरुग्राम, फरीदाबाद और आसपास के अन्य इलाकों सहित आसपास के शहरों को भरपूर ऑक्सीजन प्रदान करती है। अरावली ने हजारों साल पुराने पेड़ों के इतिहास को संजोया है।

 

घनी वर्षा में लुभाते है झरने

देशी प्रजाति के पेड़ पौधे अरावली पहाड़ी की बढ़ाएंगे रौनक 

अरावली पहाड़ी की सुंदरता का असली रूप सावन में दिखता है। झरनों की आवाज मन को मोह लेती है। पक्षियों की चहचहाहट मन को आनंदित कर देती है। बड़ी संख्या में लोग पहाड़ के झरनों का आनंद लेने आते हैं। झरने किसी पिकनिक स्पॉट से कम नहीं हैं।

 

कीकर से घिरा है अरावली 

देशी प्रजाति के पेड़ पौधे अरावली पहाड़ी की बढ़ाएंगे रौनक 

अरावली पहाड़ी में चारों ओर केवल विदेशी कीकर ही देखा जा सकता है। कीकर दूसरे पौधों को नहीं होने देता। संस्था के संस्थापक सदस्य जितेंद्र मदाना, कैलाश बिधूड़ी, यश भड़ाना, जितिन तंवर, पंकज ग्रोवर, कृष्णा बावत का कहना है कि हमारी संस्था पौधे लगाएगी और रखरखाव का काम भी करेगी। पौधों को नियमित पानी और खाद देने के अलावा पौधों की सुरक्षा के लिए जालियों का प्रयोग किया जाता है। इसका खर्च संस्था वहन करती है। संस्था के सदस्य आपस में चंदा इकट्ठा करते हैं। सैनिक कॉलोनी के सामने ग्रीनबेल्ट पर संस्था ने नर्सरी तैयार की है। वर्तमान में इसमें करीब 20 हजार पौधे हैं। इस वर्ष संस्था ने 40 से 50 हजार पौधे लगाने का लक्ष्य रखा है।

 

अरावली की देशी प्रजातियों के पेड़-पौधे

देशी प्रजाति के पेड़ पौधे अरावली पहाड़ी की बढ़ाएंगे रौनक 

अरावली की मूल प्रजातियों में देसी कीकर, गुलाब, पापड़ी पिलखान, रेंटा, घी, हिंगोटा, सिरस, खेजड़ी, ढाक, गूगल, विदेशी पापड़ी, शीशम, बेरी, पहाड़ी पापड़ी, शहतूत, इमली, कचनार, गंडी आदि प्रजातियां शामिल हैं। देशी प्रजातियां तेजी से बढ़ती हैं। इसके फलों का प्रयोग किया जाता है।

Latest articles

“नशा मुक्त भारत पखवाडा” के अन्तर्गत फरीदाबाद पुलिस कर रही सराहनीय कार्य, नशा तस्करों की धरपकड़ के साथ-साथ चलाए जा रहे जागरूकता अभियान

पुलिस महानिदेशक हरियाणा के आदेश, पुलिस आयुक्त राकेश कुमार आर्य के मार्गदर्शन में फरीदाबाद...

नशा मुक्त भारत पखवाडा के अन्तर्गत अपराध शाखा बॉर्डर की टीम ने 532 ग्राम गांजा सहित आरोपी को किया गिरफ्तार

पुलिस महानिदेशक हरियाणा के निर्देशानुसार पुलिस आयुक्त राकेश कुमार आर्य के मार्गदर्शन में...

नशा मुक्त भारत पखवाडा के अंतर्गत नशे पर प्रहार करते हुए 520 ग्राम गांजा सहित आरोपी को अपराध शाखा DLF की टीम ने किया...

पुलिस महानिदेशक हरियाणा के निर्देशानुसार पुलिस आयुक्त राकेश कुमार आर्य के मार्ग दर्शन में...

More like this

“नशा मुक्त भारत पखवाडा” के अन्तर्गत फरीदाबाद पुलिस कर रही सराहनीय कार्य, नशा तस्करों की धरपकड़ के साथ-साथ चलाए जा रहे जागरूकता अभियान

पुलिस महानिदेशक हरियाणा के आदेश, पुलिस आयुक्त राकेश कुमार आर्य के मार्गदर्शन में फरीदाबाद...

नशा मुक्त भारत पखवाडा के अन्तर्गत अपराध शाखा बॉर्डर की टीम ने 532 ग्राम गांजा सहित आरोपी को किया गिरफ्तार

पुलिस महानिदेशक हरियाणा के निर्देशानुसार पुलिस आयुक्त राकेश कुमार आर्य के मार्गदर्शन में...

नशा मुक्त भारत पखवाडा के अंतर्गत नशे पर प्रहार करते हुए 520 ग्राम गांजा सहित आरोपी को अपराध शाखा DLF की टीम ने किया...

पुलिस महानिदेशक हरियाणा के निर्देशानुसार पुलिस आयुक्त राकेश कुमार आर्य के मार्ग दर्शन में...