Homeजाने क्या है मधुश्रावणी व्रत का महत्व ,कोरोना काल में कैसे करें...

जाने क्या है मधुश्रावणी व्रत का महत्व ,कोरोना काल में कैसे करें इसे संपूर्ण

Array

Published on

हिंदू धर्म में शास्त्रों में भोले भंडारी भगवान शंकर जी एवं माता पार्वती के विवाह की महिमा अनेक रूपों में मिलता है, कहा जाता है कि इनका विवाह पढ़े ही भव्य तरीके से संपन्न हुआ था| माता पार्वती शिव शंकर की विवाह की कहानी बहुत ही पवित्र मानी जाती है| किसी के विवाह के दौरान भी माता पार्वती और शिव शंकर के विवाह की कहानी सुनाई जाती है|

सावन के महीने में भी इस कथा का अपना अलग ही महत्व है|हर सावन के महीने में नवविवाहित स्त्रियां शिव पार्वती की पूजा आराधना करती हैं एवं उनके विवाह की कहानी सुनती हैं|

जाने क्या है मधुश्रावणी व्रत का महत्व ,कोरोना काल में कैसे करें इसे संपूर्ण

इस वर्ष मिथिलांचल का मधुश्रावणी व्रत गुरुवार 23 जुलाई को पूर्ण होगा शहर के विभिन्न इलाकों में रहने वाली मैथिल समाज की नवविवाहिता ने सावन मास में 14 दिन तक व्रत और विधि विधान से पूजा करती है| फरीदाबाद में भी इस पर्व को महिलाएं पूरे रीति रिवाज से बना रही हैं |

जाने क्या है मधुश्रावणी व्रत का महत्व ,कोरोना काल में कैसे करें इसे संपूर्ण

बता दें कि यह है कि यह पर्व इस वर्ष 14 दिनों तक चलेगा| जो 23 जुलाई को पूरा हो रहा है| हर दिन भगवान शंकर और पार्वती के ग्रस्त जीवन की विभिन्न प्रसंगों से से जुड़ी कथाएं नवविवाहित स्त्रियां सुन रही है और सुनेगी| हर दिन पूजा और नई खत्म हो रही है| शाम को फूल पत्ते के लिए नवविवाहिता अपनी सहेली और दूसरों के साथ निकलती हैं| इसी फूल पत्ते से दूसरे दिन भगवान और पुरुष हरा की पूजा होगी| यह पर्व मधुश्रावणी से जुड़ा हुआ पर्व है|

इसमें ताजे फूल पत्ते से पूजा नहीं की जाती इस पर्व के दौरान पेड़ से गिरे फूल पत्ते ही चुने जाते हैं| सावन में इन पेड़ों के फूल पत्ते तोड़ना वर्जित है| पूजा का दैनिक नियम व्रत के समापन तक जारी रहता है|

जाने क्या है मधुश्रावणी व्रत का महत्व ,कोरोना काल में कैसे करें इसे संपूर्ण

भगवान शंकर पार्वती और नाग नागिन प्रवृत्ति के देवता माने जाते हैं| इसमें वृद्धि हर दिन ससुराल से आए खानपान का भी इस्तेमाल करती है| इस दौरान हर घर पर होने वाली कथा में आसपास के सभी लोगों को आमंत्रित किया जाता है, लेकिन कोरोनावायरस के चलते इस साल सिर्फ घर की महिलाओं के साथ ही पूजा व कथा की जा रही है|

इस वर्ष मिथिलांचल का मधुश्रावणी व्रत गुरुवार 23 जुलाई को पूर्ण होगा शहर के विभिन्न इलाकों में रहने वाली मैथिल समाज की नवविवाहिता ने सावन मास में 14 दिन तक व्रत और विधि विधान से पूजा करती है| फरीदाबाद में भी इस पर्व को महिलाएं पूरे रीति रिवाज से बना रही हैं

Latest articles

अरूणाभा वेलफेयर सोसायटी , फरीदाबाद द्वारा आयोजित हुआ दो दिवसीय बसंतोत्सव

अरूणाभा वेलफेयर सोसायटी , फरीदाबाद द्वारा आयोजित दो दिवसीय बसंतोत्सव के शुभ अवसर पर...

आखिर क्यों बना Haryana के टीचर का फॉर्म हाउस पूरे प्रदेश में चर्चा का विषय, यहां पढ़ें पूरी ख़बर

आज के समय में फॉर्म हाउस बनाना कोई बड़ी बात नहीं है, लेकिन हरियाणा...

Faridabad का ये किसान थोड़ी सी समझदारी से आज कमा रहा लाखों, यहां जानें कैसे

आज के समय में देश के युवा शिक्षा, स्वास्थ आदि क्षेत्रों के साथ साथ...

Haryana के इस शख्स ने किया Bollywood के सुपरस्टार ऋतिक रोशन के साथ काम, इससे पहले भी कर चुके है कई फिल्मों में काम

प्रदेश के युवा या बुजुर्ग सिर्फ़ खेल या शिक्षा के मैदान में ही तरक्की...

More like this

अरूणाभा वेलफेयर सोसायटी , फरीदाबाद द्वारा आयोजित हुआ दो दिवसीय बसंतोत्सव

अरूणाभा वेलफेयर सोसायटी , फरीदाबाद द्वारा आयोजित दो दिवसीय बसंतोत्सव के शुभ अवसर पर...

आखिर क्यों बना Haryana के टीचर का फॉर्म हाउस पूरे प्रदेश में चर्चा का विषय, यहां पढ़ें पूरी ख़बर

आज के समय में फॉर्म हाउस बनाना कोई बड़ी बात नहीं है, लेकिन हरियाणा...

Faridabad का ये किसान थोड़ी सी समझदारी से आज कमा रहा लाखों, यहां जानें कैसे

आज के समय में देश के युवा शिक्षा, स्वास्थ आदि क्षेत्रों के साथ साथ...