HomeReligionरावण के वो अधूरे काम, जिन्हें देख कर वैज्ञानिकों के भी होश...

रावण के वो अधूरे काम, जिन्हें देख कर वैज्ञानिकों के भी होश उड़ गए…

Published on

रावण के वो 7 अधूरे काम, जिन्हें देख कर वैज्ञानिकों के भी होश उड़ गए :- रावण आज बुराई का प्रतीक है, क्यूंकि उसने अपने कर्मों से दुनिया की सजीव हो या निर्जीव, हर चीज को अपने बुरे दिमाग अनुसार ढालने की पुरजोर कोशिश की थी. उसके बुरे कर्मों की सूचि दिन प्रति दिन बढती ही जा रही थी. तब जाकर स्वयं भगवान विष्णु भगवान श्री राम का अवतार लेकर उसे मारने धरती पर आये.

रामायण के बारे में सबको पता है. रामायण में रावण का योगदान मुख्यतः राक्षसराज के रूप में है परंतु हर किसी को ये भी पता है कि रावण एक बहुत बड़ा पंडित था.

रावण के वो अधूरे काम, जिन्हें देख कर वैज्ञानिकों के भी होश उड़ गए…

रावण शंकर भगवान का भक्त भी था. रावण बहुत बड़ा ज्ञाता भी था आज के समय में रावण होता तो एक वैज्ञानिक होता. जिद्दी रावण के भी कुछ ऐसे काम थे जो अधूरे रह गए थे.

रावण के अधूरे काम

आज हम आप को रावण के वहीँ अधूरे काम बता रहे है. जानिये रावण के अधूरे काम जो आज भी अधूरे है.

राक्षसों का बोलबाला

रावण हमेशा चाहता था कि दुनिया में हर जगह राक्षसों का वर्चस्व हो. जो कि उसकी इच्छा अधूरी ही रह गई.

रावण के वो अधूरे काम, जिन्हें देख कर वैज्ञानिकों के भी होश उड़ गए…

स्वर्ग तक सीढियाँ बनाना

रावण खुद को बहुत शक्तिशाली समझता था और वो चाहता था कि बस लोग उसी की पूजा करें और इसके लिए उसने स्वर्ग तक सीढियाँ बनाने की एक कोशिश भी की, ताकि वो वहां भी पहुँच कर राज कर सके.

सुगन्धित सोना

रावण को सोना बहुत पसंद था. इसी लिए उसने सोने की लंका बनवा रखी थी. रावण भी सोने को सुगन्धित करना चाहता था ताकि धरती के संपूर्ण सोने को सहज कर अपने पास रख सके.

रावण के वो अधूरे काम, जिन्हें देख कर वैज्ञानिकों के भी होश उड़ गए…

मीठा समुन्द्र

रावण एक दम ही अलग तरह से सोचता था. रावण हर चीज को अपने अनुसार ढालने का प्रयास करना चाहता था. जैसे आसमान का रंग काला और समुन्द्र का जल मीठा.

मदिरा को गंधहीन बनाना

रावण अगर कुछ दिन और जीवित रहता तो मदिरा को गंधहीन बना देता। रावण की चौथी इच्छा थी कि मदिरा में कोई गंध नहीं हो जिससे सभी लोग मदिरापान का आनंद ले सकें।

रावण के वो अधूरे काम, जिन्हें देख कर वैज्ञानिकों के भी होश उड़ गए…

सुंदर महिलाएं सिर्फ़ उसके पास हों

रावण एक शक्तिशाली पुरुष था वो धरती की हर सुंदर नारी को अपने आस पास रखना चाहता था.

रंगभेद को समाप्त करना

रावण चाहता था कि दुनिया के सभी लोग गोरे हो जाए और रंगभेद हमेशा के लिए दूर हो जाएं। रंगभेद की दूर करने का रावण का ये विचार यूं तो बहुत अच्छा था लेकिन वो इसे पूरा नहीं कर पाया।

ये थे रावण के अधूरे काम – रावण अगर ये काम पूरा कर पाता तो दुनिया की शक्ल हमेशा के लिए बदल जाती, उसकी इस सोच के बारे में वैज्ञानिक भी हैरान है।

यूं तो रावण इन कामों को पूरा नहीं कर पाया लेकिन इसमें कोई शक नहीं है कि इनमें से कुछ कामों के पीछे अच्छी सोच थी। वैसे भी रावण को महापंडित कहा जाता है और उसके ऐसे विचारों से उसके महापंडित होने का पता चलता है।

Latest articles

श्री राम नाम से चली सरकार भूले तुलसी का विचार और जनता को मिला केवल अंधकार (#_बजट): भारत अशोक अरोड़ा

खट्टर सरकार ने आज राज्य के लिए आम बजट पेश किया इस दौरान सीएम...

अरूणाभा वेलफेयर सोसायटी , फरीदाबाद द्वारा आयोजित हुआ दो दिवसीय बसंतोत्सव

अरूणाभा वेलफेयर सोसायटी , फरीदाबाद द्वारा आयोजित दो दिवसीय बसंतोत्सव के शुभ अवसर पर...

आखिर क्यों बना Haryana के टीचर का फॉर्म हाउस पूरे प्रदेश में चर्चा का विषय, यहां पढ़ें पूरी ख़बर

आज के समय में फॉर्म हाउस बनाना कोई बड़ी बात नहीं है, लेकिन हरियाणा...

Faridabad का ये किसान थोड़ी सी समझदारी से आज कमा रहा लाखों, यहां जानें कैसे

आज के समय में देश के युवा शिक्षा, स्वास्थ आदि क्षेत्रों के साथ साथ...

More like this

श्री राम नाम से चली सरकार भूले तुलसी का विचार और जनता को मिला केवल अंधकार (#_बजट): भारत अशोक अरोड़ा

खट्टर सरकार ने आज राज्य के लिए आम बजट पेश किया इस दौरान सीएम...

अरूणाभा वेलफेयर सोसायटी , फरीदाबाद द्वारा आयोजित हुआ दो दिवसीय बसंतोत्सव

अरूणाभा वेलफेयर सोसायटी , फरीदाबाद द्वारा आयोजित दो दिवसीय बसंतोत्सव के शुभ अवसर पर...

आखिर क्यों बना Haryana के टीचर का फॉर्म हाउस पूरे प्रदेश में चर्चा का विषय, यहां पढ़ें पूरी ख़बर

आज के समय में फॉर्म हाउस बनाना कोई बड़ी बात नहीं है, लेकिन हरियाणा...