HomeFaridabadजनता की कारस्तानी छीन रही हैं शहर की साँसे : मैं हूँ...

जनता की कारस्तानी छीन रही हैं शहर की साँसे : मैं हूँ फरीदाबाद

Published on

नमस्कार! मैं फरीदाबाद आप सभी का इस्तकबाल करता हूँ। आज मैं आपके समक्ष अपनी खूबसूरती का वर्णन करने के लिए हाजिर हुआ हूँ। मैंने कभी भी खुदको तराशने की कोशिश नहीं की क्यों की मेरी आवाम ही मेरे नूर को रौशन कर रही है। मेरी जनता मेरा ध्यान रखना जानती है।

कहाँ और कितनी मात्रा में कूड़ा फैलाना है, कैसे प्रदूषण को बढ़ाना है, कैसे महामारी के दौर में सामाजिक दूरी का मजाक बनाना है। यह सब कुछ मेरे प्रिय फरीदाबाद वासी बखूबी जानते हैं। अरे क्या हुआ? मेरे शब्द चुभ रहे हैं आपको, मैं तो आप सभी की तारीफ के कसीदे पढ़ रहा है हूँ, फिर इसमें क्रंदन कैसा?

जनता की कारस्तानी छीन रही हैं शहर की साँसे : मैं हूँ फरीदाबाद

जानता हूँ कि अब आपका जवाब होगा की यह सब कुछ सरकार की बदौलत हो रहा है। पर मेरे दोस्त यह सत्य नहीं, सच तो यह है कि अगर आज मैं दयनीय स्थिति में हूँ तो इसका एक बहुत बड़ा कारण आप लोग हैं। जानना चाहते हैं कैसे? अभी कुछ दिन पूर्व ही स्वच्छता पखवाड़े की दुहाई देते हुए राज्य सरकार ने एक कानून बनाया जो कहता है कि अगर किसी ने भी सड़क किनारे कूड़ा जलाया तो उस व्यक्ति को 5 हजार रुपयों का जुर्माना भरना होगा।

जनता की कारस्तानी छीन रही हैं शहर की साँसे : मैं हूँ फरीदाबाद

पर एक कहावत तो आपने भी सुनी होगी कि कुत्ते कि दुम कभी सीधी नहीं होती और यही हाल है फरीदाबाद की आवाम का। कल ही मेरे प्रांगण में बह रही नहर के पास मैंने कूड़े के अम्बार को जलते हुए देखा। उससे निकलता हुआ धुआं मेरा दम घोंट रहा था। मैं कहाँ जाता, किसे बताता अपनी परेशानी के बारे में? वैसे भी यह परेशानी कोई नई बात तो नहीं मैं तो रोज इसे झेलता हूँ।

जनता की कारस्तानी छीन रही हैं शहर की साँसे : मैं हूँ फरीदाबाद

ग्रेटर फरीदाबाद की प्राचीर पर बसे एक गैराज वाला अपनी दुकान का कूड़ा सड़क किनारे इकठ्ठा कर उसे जला देता है। पूछने पर कहता है कि यह जगह उसकी है, पर उस नादान को कौन समझाए कि यह जगह किसी की नहीं है। आप सब मेरी आयु को घटा रहे हो।

जनता की कारस्तानी छीन रही हैं शहर की साँसे : मैं हूँ फरीदाबाद

अगर ऐसा ही चलता रहा तो वह दिन भी दूर नहीं जब मैं मृत्यु शैया पर विद्यमान हो जाऊँगा। समझना जरूरी है कि हर बार सरकार को दोष देकर कुछ नहीं होगा। हाँ जानता हूँ कि मेरा संरक्षण सरकार का कर्तव्य है। पर आपका मेरे प्रति कोई दाइत्व नहीं? जरा सोचिए कि मैं नहीं तो आप भी नहीं।

Latest articles

पुलिस का दुरूपयोग कर रही है भाजपा सरकार-विधायक नीरज शर्मा

आज दिनांक 26 फरवरी को एनआईटी फरीदाबाद से विधायक नीरज शर्मा ने बहादुरगढ में...

श्री राम नाम से चली सरकार भूले तुलसी का विचार और जनता को मिला केवल अंधकार (#_बजट): भारत अशोक अरोड़ा

खट्टर सरकार ने आज राज्य के लिए आम बजट पेश किया इस दौरान सीएम...

अरूणाभा वेलफेयर सोसायटी , फरीदाबाद द्वारा आयोजित हुआ दो दिवसीय बसंतोत्सव

अरूणाभा वेलफेयर सोसायटी , फरीदाबाद द्वारा आयोजित दो दिवसीय बसंतोत्सव के शुभ अवसर पर...

आखिर क्यों बना Haryana के टीचर का फॉर्म हाउस पूरे प्रदेश में चर्चा का विषय, यहां पढ़ें पूरी ख़बर

आज के समय में फॉर्म हाउस बनाना कोई बड़ी बात नहीं है, लेकिन हरियाणा...

More like this

पुलिस का दुरूपयोग कर रही है भाजपा सरकार-विधायक नीरज शर्मा

आज दिनांक 26 फरवरी को एनआईटी फरीदाबाद से विधायक नीरज शर्मा ने बहादुरगढ में...

श्री राम नाम से चली सरकार भूले तुलसी का विचार और जनता को मिला केवल अंधकार (#_बजट): भारत अशोक अरोड़ा

खट्टर सरकार ने आज राज्य के लिए आम बजट पेश किया इस दौरान सीएम...

अरूणाभा वेलफेयर सोसायटी , फरीदाबाद द्वारा आयोजित हुआ दो दिवसीय बसंतोत्सव

अरूणाभा वेलफेयर सोसायटी , फरीदाबाद द्वारा आयोजित दो दिवसीय बसंतोत्सव के शुभ अवसर पर...