HomeUncategorizedआखिरकार कैसे पड़ा आम का नाम लंगड़ा, बहुत रोचक है इसके पीछे...

आखिरकार कैसे पड़ा आम का नाम लंगड़ा, बहुत रोचक है इसके पीछे की कहानी…

Published on

गर्मी का मौसम आते ही लोग उत्सुक हो जाते है क्योंकि उन्हें मीठे मीठे आम खाने मिलते है। आम सभी को पसंद होता है क्या बच्चे क्या बूढ़े सभी आम के दीवाने होते है। आम को फलों का राजा कहा जाता है और आम की प्रजातियों में लंगड़ा आम को सर्वश्रेष्ठ करार दिया गया है। हमारे देश में 1500 किस्म के आम मिलते हैं, लेकिन इन सबमें लंगड़े आम का कोई तोड़ नहीं।

मई से अगस्त के बीच आने वाले इस आम का रंग हरा या हल्का पीला होता है। बाजार में मिलने वाले अन्य आमों की तुलना में यह अधिक मीठा और मुलायम होता है। अब बात की जाए आम का नाम आखिर लंगड़ा क्यों पड़ा।

आखिरकार कैसे पड़ा आम का नाम लंगड़ा, बहुत रोचक है इसके पीछे की कहानी…

कहते हैं 250 साल पहले बनारस के शिव मंदिर में एक लंगड़ा पुजारी था. एक दिन मंदिर में एक साधु आकर ठहरा। उसने मंदिर में आम के 2 पौधे लगाए।

आखिरकार कैसे पड़ा आम का नाम लंगड़ा, बहुत रोचक है इसके पीछे की कहानी…

सालों बाद जब उन पर आम लगे तो लंगड़े पुजारी ने इन्‍हें भगवान शिव को अर्पित किया। दरअसल साधु ने पुजारी को आदेश दिया था कि यह आम किसी को न दिए जाएं, लेकिन काशी के राजा ने आम साधु से ले लिए।

धीरे-धीरे आम की यह प्रजाति पूरे बनारस में फैल गई और लंगड़े पुजारी के नाम पर इसका नाम लंगड़ा पड़ गया। पश्चिम एशिया, बांग्‍लादेश और ब्रिटेन में इसका एक्‍सपोर्ट भी होता है। लंगड़े आम का नाम भले ही लंगड़ा हो परंतु इसकी मिठास बिल्कुल सीधी है। ये सीधे दिल मे उतरती है।

आखिरकार कैसे पड़ा आम का नाम लंगड़ा, बहुत रोचक है इसके पीछे की कहानी…

इस बात को वो लोग भलीभांति जानते हैं जो इसके दीवाने हैं। आपको बता दे कि आम का खयाल आते ही मुंह में पानी भरने लगता हैं। ये है ही ऐसा फल, सभी अपनी ललचाई नज़र इस पर रखते हैं। आपको बता दें कि भारत में लगभग 1500 किस्म के आमों का उत्पादन किया जाता है।

इनमे से सबसे ज़्यादा खाये जाने वाले आमों में दशहरी, हापुस, चौसा, केसर, तोतापरी, सफेदा, सिंदूरी, नीलम और लंगड़ा इत्यादि आते हैं। हर आम के नाम के पीछे उसके स्वाद और आकार की कहानी छुपी हुई होती है।

Latest articles

अरूणाभा वेलफेयर सोसायटी , फरीदाबाद द्वारा आयोजित हुआ दो दिवसीय बसंतोत्सव

अरूणाभा वेलफेयर सोसायटी , फरीदाबाद द्वारा आयोजित दो दिवसीय बसंतोत्सव के शुभ अवसर पर...

आखिर क्यों बना Haryana के टीचर का फॉर्म हाउस पूरे प्रदेश में चर्चा का विषय, यहां पढ़ें पूरी ख़बर

आज के समय में फॉर्म हाउस बनाना कोई बड़ी बात नहीं है, लेकिन हरियाणा...

Faridabad का ये किसान थोड़ी सी समझदारी से आज कमा रहा लाखों, यहां जानें कैसे

आज के समय में देश के युवा शिक्षा, स्वास्थ आदि क्षेत्रों के साथ साथ...

Haryana के इस शख्स ने किया Bollywood के सुपरस्टार ऋतिक रोशन के साथ काम, इससे पहले भी कर चुके है कई फिल्मों में काम

प्रदेश के युवा या बुजुर्ग सिर्फ़ खेल या शिक्षा के मैदान में ही तरक्की...

More like this

अरूणाभा वेलफेयर सोसायटी , फरीदाबाद द्वारा आयोजित हुआ दो दिवसीय बसंतोत्सव

अरूणाभा वेलफेयर सोसायटी , फरीदाबाद द्वारा आयोजित दो दिवसीय बसंतोत्सव के शुभ अवसर पर...

आखिर क्यों बना Haryana के टीचर का फॉर्म हाउस पूरे प्रदेश में चर्चा का विषय, यहां पढ़ें पूरी ख़बर

आज के समय में फॉर्म हाउस बनाना कोई बड़ी बात नहीं है, लेकिन हरियाणा...

Faridabad का ये किसान थोड़ी सी समझदारी से आज कमा रहा लाखों, यहां जानें कैसे

आज के समय में देश के युवा शिक्षा, स्वास्थ आदि क्षेत्रों के साथ साथ...