HomeFaridabadबिन मास्क लगाए अस्पताल जाकर अपनी 'वीरता' का परिचय दे रहे हैं...

बिन मास्क लगाए अस्पताल जाकर अपनी ‘वीरता’ का परिचय दे रहे हैं शहरवासी : मैं हूँ फरीदाबाद

Published on

नमस्कार! मैं हूँ फरीदाबाद और आज मैं आप सभी का परिचय करवाने आया हूँ उन लोगों से जिन्होंने मेरा सीना गर्व से चौड़ा कर दिया। अरे इन लोगों के पास दिव्य शक्तियां हैं जो इन्हे वैश्विक आपदा से बचा रही हैं। क्या हुआ ? सुनकर चौंक गए ?

मैं भी बिलकुल आप ही की तरह हैरान रह जाता हूँ जब मैं इन खतरों के खिलाड़ियों को अपने प्रांगण में देखता हूँ। आप जानते ही होंगे कि कैसे पूरा विश्व अभी महामारी की चपेट में है पर क्षेत्र के इन सूरमाओं को बिमारी का डर नहीं। तभी तो बिन मास्क लगाए यह लोग इधर उधर कहीं भी निकल जाते हैं।

बिन मास्क लगाए अस्पताल जाकर अपनी 'वीरता' का परिचय दे रहे हैं शहरवासी : मैं हूँ फरीदाबाद

अरे बाकी सब कुछ छोड़िये इन वीरों को तो अस्पताल में भी मास्क की जरूरत नहीं पड़ती। क्या बिमारी और क्या संक्रमण यह लोग तो दिव्य शक्तियों क साथ पैदा हुए हैं इन्हे कहाँ कुछ होने वाला है। तभी तो भय मुक्त यह लोग बीके अस्पताल के प्रांगण में भी बिन मास्क और सामाजिक दूरी का पालन किए अपने आप में मसरूफ रहते हैं।

बिन मास्क लगाए अस्पताल जाकर अपनी 'वीरता' का परिचय दे रहे हैं शहरवासी : मैं हूँ फरीदाबाद

अब सोचने वाली बात तो यह हैं कि जिस अस्पताल में महामारी के मरीजों की देख रेख की जा रही है अगर वहीँ पर लोगों का यह हाल होगा तो बाकी तो फिर राम ही मालिक है। पर यह सोचकर हैरानी होती है कि जब यह लोग अस्पताल में ऐसी हरकते करते हैं तो वहाँ मौजूद कार्य प्रणाली क्या कर रही होती है?

बिन मास्क लगाए अस्पताल जाकर अपनी 'वीरता' का परिचय दे रहे हैं शहरवासी : मैं हूँ फरीदाबाद

क्या बीके अस्पताल में मौजूद आलाकमान अधिकारी और चिकित्सक महामारी के परिणाम से ज्ञापित नहीं ? क्या उन्हें नहीं पता कि संक्रमण की चेन को तोड़ने के लिए निर्देशों का पालन किया जाना आवश्यक है ? तो जब अस्पताल के प्रांगण में महामारी से जुड़े निर्देशों की नाफरमानी की जाती है तो उसके जवाब में कड़े कदम क्यों नहीं उठाए जाते ?

बिन मास्क लगाए अस्पताल जाकर अपनी 'वीरता' का परिचय दे रहे हैं शहरवासी : मैं हूँ फरीदाबाद

पर प्रशासन और कार्य प्रणाली भी क्या कर सकते हैं ? वो तो नियम लागू कर निर्देश दे सकते हैं उन नियमों के पालन करने का जिम्मा तो फरीदाबाद की आवाम के जिम्मे है। मैं आप सभी को समझाना चाहता हूँ कि कुत्ते की दुम बनने से बेहतर है कि आप अपने अंदर बदलाव लाएं।

बिन मास्क लगाए अस्पताल जाकर अपनी 'वीरता' का परिचय दे रहे हैं शहरवासी : मैं हूँ फरीदाबाद

सावधानी जरूरी है क्यों कि खतरा अभी टला नहीं है। महामारी के अंश हमारे बीच में ही हैं उन्हें मिटाने के लिए निर्देशों का पालन करना जरूरी है।

Latest articles

महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस पर रक्तदान कर बनें पुण्य के भागी : भारत अरोड़ा

श्री महारानी वैष्णव देवी मंदिर संस्थान द्वारा महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस के...

पुलिस का दुरूपयोग कर रही है भाजपा सरकार-विधायक नीरज शर्मा

आज दिनांक 26 फरवरी को एनआईटी फरीदाबाद से विधायक नीरज शर्मा ने बहादुरगढ में...

श्री राम नाम से चली सरकार भूले तुलसी का विचार और जनता को मिला केवल अंधकार (#_बजट): भारत अशोक अरोड़ा

खट्टर सरकार ने आज राज्य के लिए आम बजट पेश किया इस दौरान सीएम...

अरूणाभा वेलफेयर सोसायटी , फरीदाबाद द्वारा आयोजित हुआ दो दिवसीय बसंतोत्सव

अरूणाभा वेलफेयर सोसायटी , फरीदाबाद द्वारा आयोजित दो दिवसीय बसंतोत्सव के शुभ अवसर पर...

More like this

महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस पर रक्तदान कर बनें पुण्य के भागी : भारत अरोड़ा

श्री महारानी वैष्णव देवी मंदिर संस्थान द्वारा महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस के...

पुलिस का दुरूपयोग कर रही है भाजपा सरकार-विधायक नीरज शर्मा

आज दिनांक 26 फरवरी को एनआईटी फरीदाबाद से विधायक नीरज शर्मा ने बहादुरगढ में...

श्री राम नाम से चली सरकार भूले तुलसी का विचार और जनता को मिला केवल अंधकार (#_बजट): भारत अशोक अरोड़ा

खट्टर सरकार ने आज राज्य के लिए आम बजट पेश किया इस दौरान सीएम...