HomeIndiaआपदा को अवसर मे बदला, बाइक पर छोले कुल्चे बेच कमाते है...

आपदा को अवसर मे बदला, बाइक पर छोले कुल्चे बेच कमाते है 2000 रू. प्रतिदिन

Published on

आज हम बात करेंगे दिल्ली के दीपक छाबड़ा की, जो 9 साल से नौकरी कर रहे थे। जैसे तैसे उन्होने नौकरी छोड़कर अपना रेस्टोरेंट शुरू किया। लेकिन किस्मत को कुछ और ही मंजूर था।  रेस्टोरेंट शुरू करने के 5 महीने बाद ही लॉकडाउन लग गया और उन्हें इसे बंद करना पड़ा।

इसके बावजूद उन्होंने हार नहीं मानी। वो बताते है कि बचपन से ही मुझे चुनौतियों का सामना करना पड़ा। पैदा होते ही तेज बुखार आ गया था। डॉक्टर ने गलत इंजेक्शन दे दिया, जिससे ब्रेन में दिक्कत आ गई। फिर मां-बाप गुरुद्वारा ले गए। रब की रहमत से मैं ठीक हो गया। बड़े कठिन हालातों में ग्रेजुएशन किया। फिर प्रिंटिंग का काम करने लगा।

आपदा को अवसर मे बदला, बाइक पर छोले कुल्चे बेच कमाते है 2000 रू. प्रतिदिन

कुछ समय घर में मेस भी चलाई, लेकिन वो काम भी ज्यादा चला नहीं। फिर एक स्पोर्ट्स कंपनी में पैकेजिंग का काम देखने लगा। नौकरी तो बढ़िया चल रही थी, लेकिन सैलरी महज 15 हजार मिलती थी, जिससे गुजारा करना मुश्किल पड़ रहा था।

जो भी पूंजी थी, वो सब बिजनेस में लगा दी। काम बढ़िया चलने भी लगा था। हर रोज 50-60 ग्राहक आने लगे थे, लेकिन तभी मार्च में लॉकडाउन लग गया। इसके बाद उन्हें रेस्टोरेंट बंद करना पड़ा। सुबह से शाम तक घूम-घूमकर देखा करता था कि लोग कर क्या रहे हैं? कैसे पैसा कमा रहे हैं? इसलिए तय किया कि मैं भी अपनी बाइक पर एक कैरियर लगवाऊंगा और उसी से छोला कुल्चा, छोला चावल बेचना शुरू करूंगा।

आपदा को अवसर मे बदला, बाइक पर छोले कुल्चे बेच कमाते है 2000 रू. प्रतिदिन

पिछले साल जून में ही उन्होंने फिर काम शुरू कर दिया। इस बार न वर्कर्स रखे थे न किसी को किराया देना था। खुद सुबह 6 बजे उठता हूं। 10 बजे तक खाना तैयार करता हूं। फिर 11 बजे से अपनी दुकान खोल लेता हूं। मुझे पहले दिन से ही अच्छा रिस्पॉन्स मिलने लगा। कभी दोपहर में 3 बजे ही पूरा खाना खत्म हो जाता है तो कभी 5 बजे तक लगभग सब खत्म हो जाता है।

Latest articles

श्री राम नाम से चली सरकार भूले तुलसी का विचार और जनता को मिला केवल अंधकार (#_बजट): भारत अशोक अरोड़ा

खट्टर सरकार ने आज राज्य के लिए आम बजट पेश किया इस दौरान सीएम...

अरूणाभा वेलफेयर सोसायटी , फरीदाबाद द्वारा आयोजित हुआ दो दिवसीय बसंतोत्सव

अरूणाभा वेलफेयर सोसायटी , फरीदाबाद द्वारा आयोजित दो दिवसीय बसंतोत्सव के शुभ अवसर पर...

आखिर क्यों बना Haryana के टीचर का फॉर्म हाउस पूरे प्रदेश में चर्चा का विषय, यहां पढ़ें पूरी ख़बर

आज के समय में फॉर्म हाउस बनाना कोई बड़ी बात नहीं है, लेकिन हरियाणा...

Faridabad का ये किसान थोड़ी सी समझदारी से आज कमा रहा लाखों, यहां जानें कैसे

आज के समय में देश के युवा शिक्षा, स्वास्थ आदि क्षेत्रों के साथ साथ...

More like this

श्री राम नाम से चली सरकार भूले तुलसी का विचार और जनता को मिला केवल अंधकार (#_बजट): भारत अशोक अरोड़ा

खट्टर सरकार ने आज राज्य के लिए आम बजट पेश किया इस दौरान सीएम...

अरूणाभा वेलफेयर सोसायटी , फरीदाबाद द्वारा आयोजित हुआ दो दिवसीय बसंतोत्सव

अरूणाभा वेलफेयर सोसायटी , फरीदाबाद द्वारा आयोजित दो दिवसीय बसंतोत्सव के शुभ अवसर पर...

आखिर क्यों बना Haryana के टीचर का फॉर्म हाउस पूरे प्रदेश में चर्चा का विषय, यहां पढ़ें पूरी ख़बर

आज के समय में फॉर्म हाउस बनाना कोई बड़ी बात नहीं है, लेकिन हरियाणा...