HomeInternationalकोरोना से भी भयानक, मुर्गियों से होने वाली यह बीमारी कर सकती...

कोरोना से भी भयानक, मुर्गियों से होने वाली यह बीमारी कर सकती है आधी दुनिया तबाह

Published on

एक तरफ दुनिया जब कोरोना महामारी के खिलाफ लड़ाई लड़ रही है, जिसने लाखों लोगों का जीवन ले लिया है, वहीँ एक वैज्ञानिक ने चेतावनी दी है कि एक घातक महामारी आनी बाकी है जो वैश्विक आबादी का आधा हिस्सा मिटा सकती है। लोकप्रिय पुस्तक हाउ नॉट टू डाई के लेखक डॉ माइकल ग्रेगर का दावा है कि मुर्गियां अगली महामारी और सबसे खराब किस्म का कारण हो सकती हैं।

माइकल ग्रेगर के मुताबिक, पोलट्री फर्म यानी मुर्गी पालन घर से पनपा वायरस महामारी कोरोना से भी अधिक घातक साबित हो सकता है। यह कोरोना से बहुत अधिक लीथल यानी जानलेवा भी होगा। अगर हम समय रहते सतर्क ना हुए तो ‘एपोकैलिक वायरस’ दुनिया की आधी आबादी को खत्म कर सकता है |

हाउ टु सर्वाइव ए पांडेमिक ’शीर्षक वाली अपनी नवीनतम पुस्तक में, डॉ ग्रेगर ने चेतावनी दी है कि“ जब तक मुर्गी है, तब तक महामारी होगी। डॉ ग्रेगर, जो एक संयंत्र-आधारित आहार के एक मजबूत वकील हैं, उन्होंने जानवरों पर आधारित उत्पादों के उपयोग के खिलाफ अभियान चलाने में वर्षों बिताए हैं। उन्हें डर है कि जानवरों के साथ मनुष्यों का घनिष्ठ संबंध महामारी का सबसे खराब प्रकार हो सकता है। यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि महामारी कोरोना वायरस को चमगादड़ से उत्पन्न माना जाता है।

कोरोना से भी भयानक, मुर्गियों से होने वाली यह बीमारी कर सकती है आधी दुनिया तबाह

डॉक्टर ने कहा कि जितनी अधिक संख्या में जानवरों को एक साथ रखा जाता है, उनमें वायरस पनपने और उनके अंदर जाकर सर्वाइव करने की संभावना भी उतनी ही बढ़ जाती है। इसलिए हम कह नहीं सकते कि जिस चिकन को हम टेस्ट के लिए और हेल्थ के लिए खा रहे हैं, उसके मीट और टिश्यूज के साथ जानलेवा वायरस भी हमारे अंदर जा रहे होंगे।

कोरोना से भी भयानक, मुर्गियों से होने वाली यह बीमारी कर सकती है आधी दुनिया तबाह

डॉ ग्रेगर ने भविष्यवाणी की है कि चिकन फार्म एक और घातक महामारी का कारण हो सकता है। 1997 में हांगकांग में H5NI बर्ड फ्लू के बाद वायरस को खत्म करने के लिए लाखों मुर्गियों को मार दिया गया था। लेकिन फ्लू 2003 और 2009 के बीच फिर से उभरा, जो इंगित करता है कि वायरस को कभी भी पूरी तरह से समाप्त नहीं किया गया था और वह फिर से हो सकता है।

कूकडूकू से वायरस के एक और प्रकोप को रोकने के लिए, डॉ ग्रीगर ने मुर्गियों को खेती करने के तरीके को बदलने का सुझाव दिया। ज्यादातर खेतों में, मुर्गियों को ऐसे भीड़भाड़ वाले स्थानों में रखा जाता है कि पक्षी अपने पंखों को फड़फड़ा भी नहीं सकते। वैज्ञानिक कहते हैं कि उनकी बूंदों से उच्च अमोनिया का स्तर बीमारियों के लिए एक नुस्खा बनाता है।

इस समस्या के समाधान का सुझाव देते हुए, डॉ ग्रेगर ने मुर्गियों के बड़े पैमाने पर उत्पादन पर प्रतिबंध लगाने का आह्वान किया। उन्होंने पोल्ट्री किसानों को सुझाव दिया कि वे कम भीड़-भाड़ वाले स्थानों पर बाहरी पहुंच, बेहतर स्वच्छता और मानव एंटीवायरल के उपयोग के बिना छोटे झुंडों को बढ़ाएं। उन्होंने आगे कहा कि अंडे के अप्राकृतिक उत्पादन और प्रजनन के अभ्यास को समाप्त करने की भी आवश्यकता है।

ओम सेठी, फरीदाबाद

Latest articles

अरूणाभा वेलफेयर सोसायटी , फरीदाबाद द्वारा आयोजित हुआ दो दिवसीय बसंतोत्सव

अरूणाभा वेलफेयर सोसायटी , फरीदाबाद द्वारा आयोजित दो दिवसीय बसंतोत्सव के शुभ अवसर पर...

आखिर क्यों बना Haryana के टीचर का फॉर्म हाउस पूरे प्रदेश में चर्चा का विषय, यहां पढ़ें पूरी ख़बर

आज के समय में फॉर्म हाउस बनाना कोई बड़ी बात नहीं है, लेकिन हरियाणा...

Faridabad का ये किसान थोड़ी सी समझदारी से आज कमा रहा लाखों, यहां जानें कैसे

आज के समय में देश के युवा शिक्षा, स्वास्थ आदि क्षेत्रों के साथ साथ...

Haryana के इस शख्स ने किया Bollywood के सुपरस्टार ऋतिक रोशन के साथ काम, इससे पहले भी कर चुके है कई फिल्मों में काम

प्रदेश के युवा या बुजुर्ग सिर्फ़ खेल या शिक्षा के मैदान में ही तरक्की...

More like this

अरूणाभा वेलफेयर सोसायटी , फरीदाबाद द्वारा आयोजित हुआ दो दिवसीय बसंतोत्सव

अरूणाभा वेलफेयर सोसायटी , फरीदाबाद द्वारा आयोजित दो दिवसीय बसंतोत्सव के शुभ अवसर पर...

आखिर क्यों बना Haryana के टीचर का फॉर्म हाउस पूरे प्रदेश में चर्चा का विषय, यहां पढ़ें पूरी ख़बर

आज के समय में फॉर्म हाउस बनाना कोई बड़ी बात नहीं है, लेकिन हरियाणा...

Faridabad का ये किसान थोड़ी सी समझदारी से आज कमा रहा लाखों, यहां जानें कैसे

आज के समय में देश के युवा शिक्षा, स्वास्थ आदि क्षेत्रों के साथ साथ...