Pehchan Faridabad
Know Your City

भारत मे नही बल्कि इस देश मे है दुनिया का सबसे बड़ा हिन्दू मन्दिर, यहां पर कोई हिन्दू नहीं है

हमारी इस दुनिया में कई ऐसी रोचक बाते है, जिनका कही न कही से कोई न कोई संबंध निकल ही आता है। भारत में एक से बढ़कर एक विशाल और भव्य मंदिर हैं, जो इतिहास की रोचक कहानियां बयां करते हैं, लेकिन क्या आपको पता है कि कंबोडिया में दुनिया का सबसे बड़ा हिंदू मंदिर है? इसे अंकोरवाट मंदिर के नाम से जाना जाता है। यह मंदिर अंकोरयोम नामक नगर में स्थित है, जिसे प्राचीन काल में यशोधरपुर कहा जाता था।

आप लोग ताजमहल को तो अवश्‍य जानते होगे, इसकी सुन्‍दर के साथ साथ इसकी पीछे की कहानी भी लोगों को काफी रोचक लगती है। यह विशाल भव्य मंदिर भगवान विष्णु को समर्पित है, जिसका निर्माण कम्बुज के राजा सूर्यवर्मा द्वितीय ने 12वीं सदी में कराया था। आपको जानकर आश्चर्य होगा कि इस मंदिर के चारों ओर एक गहरी खाई है, जिसकी लंबाई ढाई मील और चौड़ाई 650 फुट है। इस खाई को पार करने के लिए एक पत्थर का पुल बनाया गया है।

हम एक ऐसे मन्दिर की बात करने जा रहे है, जिसकी सुन्दरता के आगे ताजमहल भी फीका है। अंकोरवाट मंदिर यूनेस्को की विश्व धरोहर स्थलों में से एक है। इस प्राचीन मंदिर की दीवारों पर भारतीय हिंदू धर्म ग्रंथों के प्रसंगों का विस्तार से चित्रण किया गया है। इसमें असुरों और देवताओं के बीच हुए समुद्र मंथन का दृश्य भी दिखाया गया है। 

आज हम जिस मन्दिर की बात कर रहे है उस मन्दिर में कोई पूजा करने नही जाता है। यह मंदिर एक ऊंचे चबूतरे पर स्थित है, जिसमें तीन खंड हैं। इन तीनों खंडों में सुंदर मूर्तियां बनाई गई हैं और प्रत्येक खंड से ऊपर के खंड तक पहुंचने के लिए सीढ़ियां भी बनाई गई हैं। प्रत्येक खंड में आठ गुंबज हैं और ये सभी गुंबज 180 फुट ऊंचे हैं। मुख्य मंदिर तीसरे खंड की छत पर स्थित है। 

इस दुनिया में हजारों मंदिर देखने को मिलेंगे। सबसे ज्यादा मंदिर आपको भारत में देखने को मिलते हैं। इस मंदिर की विशालता का अंदाजा आप इसी बात से लगा सकते हैं कि मंदिर में प्रवेश के लिए एक विशाल द्वार बनाया गया है जो लगभग 1000 फुट चौड़ा है। मंदिर साढ़े तीन किलोमीटर लंबी पत्थर की दीवारों से घिरा हुआ है। इस दीवार के बाद 700 फुट चौड़ी खाई है, जिसपर एक जगह 36 फुट चौड़ा पुल है। इस पुल से मंदिर के पहले खंड द्वार तक पहुंचा जा सकता है।