Homeएक ऐसी तोप जो 400 सालों में एक ही बार चली, जहां...

एक ऐसी तोप जो 400 सालों में एक ही बार चली, जहां गिरी वहां बन गया कुछ ऐसा नज़ारा

Published on

मानव सभ्यता के विकास के साथ ही वर्चस्व की लड़ाई भी शुरू हो गई थी। पहियों पर रखी हुई दुनिया की सबसे बड़ी तोप जयबाण देखनी है तो चले आये जयपुर के समीप जयगढ़ किले पर। अगर विज्ञान के परिप्रेक्ष्य में देखें तो, जनसंख्या बढ़ जाने के कारण भोजन तथा आवास के लिए प्राणियों में एक सक्रिय संघर्ष उत्पन्न होता है, जिसे जीवन-संघर्ष कहते हैं। हम यहां आपको भोजन और आवास से जुड़े संघर्ष के बारे में नहीं बल्कि एक दूसरे ही प्रकार के संघर्ष के बारे में बताने जा रहें।

इतिहास के कई रहस्य और प्रसंगों को खुद में समेटे शान से खड़ा है पिंकसिटी से 14 किमी दूर जयगढ़। तमाम घातक हथियारों के जरिए दुश्मन सेना के दांत खट्टे किए जाते थे। जी हां यह संघर्ष है वर्चस्व की लड़ाई का, दूसरे के ऊपर अधिपत्य स्थापित करने का। बता दें कि इस काम के लिए प्राचीन समय मे तोप को सबसे घातक हथियार माना जाता था। ऐसा हथियार, जिसमें बारुदी गोले को रखकर दूर तक फेंका जा सकता था।

एक ऐसी तोप जो 400 सालों में एक ही बार चली, जहां गिरी वहां बन गया कुछ ऐसा नज़ारा

यही वह किला है जिसमें एशिया की सबसे बड़ी तोप है। लाखो पर्यटकों की पसंद जयबाण तोप का निर्माण 1720 ई. में जयपुर के मिर्जा राजा जयसिंह द्वारा मुगल राजा मोहमद शाह के समय करवाया गया था। विश्व की सबसे बड़ी यह तोप जयगढ़ किले के डूंगर दरवाजे की बुर्ज पर स्थित है। अधिक बवजन होने से इसे कभी किले से बाहर नहीं ले जाया गया और न कभी यह किसी युद्ध में काम मे लाई गई। यह दुनिया में सबसे प्रसिद्ध तोप है।

एक ऐसी तोप जो 400 सालों में एक ही बार चली, जहां गिरी वहां बन गया कुछ ऐसा नज़ारा

यही वह किला है जिसमें खजाने की खोज के लिए पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी ने खुदाई करवाई थी। जयबाण एक दोपहिया गाड़ी पर स्थित है। पहियों व्यास में 4.5 फीट हैं। गाड़ी परिवहन के लिए दो हटाने योग्य अतिरिक्त पहिये लगाए गए हैं। इन पहियों का व्यास 9.0 फुट हैं। इस तोप से 100 किलोग्राम गनपाउडर से बना 50 किलोग्राम वजन का गोले दागा जा सकते था।

एक ऐसी तोप जो 400 सालों में एक ही बार चली, जहां गिरी वहां बन गया कुछ ऐसा नज़ारा

राजस्थान का यही वह दुर्ग है जिस पर ब्राह्य आक्रमण कभी नहीं हुआ। इतना ही नहीं तोप ऐसा हथियार रहा है, जिसमें जंग के दौरान भारी तबाही मचाने की पूरी क्षमता थी। कई बार यह जंग की तस्वीर और परिणाम पूरी तरह पलट देता था। आज भी सभी देश जंग में तोप का इस्तेमाल जरूर करते हैं। हां, अब यह तोप काफी अत्याधुनिक और पहले से अधिक खतरनाक हो गई है। मगर यह जानकर आप हैरान होंगे कि 13 वीं और 14 वीं सदी में तोप का इस्तेमाल शुरू हो गया था।

Latest articles

फरीदाबाद कालीबाड़ी में हुआ निशुल्क मेगा स्वस्थ जाँच शिविर का आयोजन

30 September 2022 को फरीदाबाद कालीबाड़ी सेक्टर 16 के प्रांगण में एक निशुल्क मेगा...

पंडित सुरेंद्र शर्मा बबली की भतीजी भानुप्रिया पराशर ने किया फरीदाबाद का नाम रोशन, इसरो में हुआ चयन

फरीदाबाद, 30 सितंबर। ओल्ड फरीदाबाद के बाढ़ मोहल्ले में रहने वाली भानुप्रिया पराशर का...

आप जिला अध्यक्ष धर्मबीर भड़ाना ने एनआईटी-86 के शमशान घाट में बैठकर किया प्रदर्शन

श्मशान घाट के सीवर का पानी पीने को मजबूर है एनआईटी 86 के लोग...

फरीदाबाद की बेटी ने रचा इतिहास, बोलने और सुनने में नहीं हैं सक्षम, लोगों को चौकाया वकील बनकर

भारत में जहाँ लोग अपने लक्ष्य को हासिल करने के लिए दिन रात एक...

More like this

फरीदाबाद कालीबाड़ी में हुआ निशुल्क मेगा स्वस्थ जाँच शिविर का आयोजन

30 September 2022 को फरीदाबाद कालीबाड़ी सेक्टर 16 के प्रांगण में एक निशुल्क मेगा...

पंडित सुरेंद्र शर्मा बबली की भतीजी भानुप्रिया पराशर ने किया फरीदाबाद का नाम रोशन, इसरो में हुआ चयन

फरीदाबाद, 30 सितंबर। ओल्ड फरीदाबाद के बाढ़ मोहल्ले में रहने वाली भानुप्रिया पराशर का...

आप जिला अध्यक्ष धर्मबीर भड़ाना ने एनआईटी-86 के शमशान घाट में बैठकर किया प्रदर्शन

श्मशान घाट के सीवर का पानी पीने को मजबूर है एनआईटी 86 के लोग...