HomeLife StyleEntertainmentचने बेच-बेच कर खेसारी लाल(Khesari Lal) को पिता ने दिए कैसेट रिकॉर्डिंग...

चने बेच-बेच कर खेसारी लाल(Khesari Lal) को पिता ने दिए कैसेट रिकॉर्डिंग के पैसे, 2 बार बर्बाद हुए लेकिन ना मानी हार

Published on

चने बेच-बेच कर खेसारी लाल(Khesari Lal yadav) को पिता ने दिए कैसेट रिकॉर्डिंग के पैसे :- आजकल के समय में भोजपुरी इंडस्ट्री भी बॉलीवुड इंडस्ट्री से कम नहीं है। समय के साथ-साथ भोजपुरी इंडस्ट्री के कलाकार देश दुनिया में अच्छा खासा नाम कमा रहे हैं। भोजपुरी सिनेमा के ऐसे बहुत से कलाकार हैं, जिन्होंने अपने बेहतरीन अभिनय के बल पर लाखों दर्शकों के दिलों में एक अलग ही जगह बनाई है।

उन्हीं कलाकारों में से एक खेसारी लाल यादव (Khesari Lal yadav) हैं, जो भोजपुरी अभिनेता, गायक और डांसर हैं। खेसारी लाल यादव भोजपुरी फिल्म इंडस्ट्री के सुपरस्टार माने जाते हैं और आज वह किसी के परिचय के मोहताज नहीं हैं। उनका कोई गाना या फिल्म रिलीज होते ही सुपरहिट साबित हो जाते हैं और दुनिया भर में खेसारी लाल यादव के चाहने वालों की संख्या करोड़ों में है।

चने बेच-बेच कर खेसारी लाल(Khesari Lal) को पिता ने दिए कैसेट रिकॉर्डिंग के पैसे, 2 बार बर्बाद हुए लेकिन ना मानी हार
चने बेच-बेच कर खेसारी लाल(Khesari Lal) को पिता ने दिए कैसेट रिकॉर्डिंग के पैसे, 2 बार बर्बाद हुए लेकिन ना मानी हार

भोजपुरी सिनेमा के सुपरस्टार खेसारी लाल यादव (Khesari Lal yadav) उन सितारों में से एक हैं, जो देर से चमके परंतु उनकी चमक लोग नहीं भूल पाएंगे। एक अच्छे अभिनेता होने के साथ-साथ खेसारी लाल यादव लाजवाब गायक भी हैं।

बिहार के छपरा जिले में हुआ जन्म

उन्होंने अपने द्वारा देखे गए सपने को अपनी मेहनत के दम पर पूरा किया है। बिहार के छपरा जिले में जन्मे खेसारी लाल यादव ने यह मुकाम पाने के लिए अपने जीवन में कड़ा संघर्ष किया है। उनके लिए यहां तक पहुंच पाना इतना आसान नहीं रहा था।

चने बेच-बेच कर खेसारी लाल(Khesari Lal) को पिता ने दिए कैसेट रिकॉर्डिंग के पैसे, 2 बार बर्बाद हुए लेकिन ना मानी हार

आपको बता दें कि खेसारी लाल यादव ने एक इंटरव्यू के दौरान अपनी गरीबी के दिनों को लेकर बातचीत की थी और उस समय के दौरान उन दिनों को याद करते हुए खेसारी लाल यादव की आंखों से आंसू छलक पड़े थे। उन्होंने ऐसा बताया था कि उनका बचपन बहुत गरीबी में व्यतीत हुआ है। इतना ही नहीं बल्कि उनका जन्म भी पड़ोसी के घर में हुआ।

चने बेच-बेच कर खेसारी लाल(Khesari Lal) को पिता ने दिए कैसेट रिकॉर्डिंग के पैसे, 2 बार बर्बाद हुए लेकिन ना मानी हार

भोजपुरी फिल्म इंडस्ट्री के सुपरस्टार खेसारी लाल यादव ने इंटरव्यू के दौरान हुए बताया कि वह तीन भाई हैं और चाचा के बच्चों को मिलाकर सब सात भाई हैं। सातों भाइयों की परवरिश उनकी मां ने ही की है। उनका घर मिट्टी का था, जो बारिश के दिनों में बह जाता था।

अकेले थे कमाने वाले

अभिनेता ने आगे बताया कि उनके पिता परिवार में अकेले कमाने वाले थे। खेसारी लाल यादव के पिता चने बेच बेच कर परिवार के सभी लोगों का पेट भरते थे। एक्टर के पिताजी ने भी अपने जीवन में बहुत संघर्ष किया है।

चने बेच-बेच कर खेसारी लाल(Khesari Lal) को पिता ने दिए कैसेट रिकॉर्डिंग के पैसे, 2 बार बर्बाद हुए लेकिन ना मानी हार
चने बेच-बेच कर खेसारी लाल(Khesari Lal) को पिता ने दिए कैसेट रिकॉर्डिंग के पैसे, 2 बार बर्बाद हुए लेकिन ना मानी हार

अपने संघर्षों के दिनों को याद करते हुए खेसारी लाल यादव ने यह कहा था कि उनके पिता ने चने बेच-बेच कर उन्हें कैसेट बनाने के लिए पैसे दिए थे। उन्होंने उन पैसों से दो कैसेट बनाएं परंतु शायद उनकी किस्मत में दु:ख परेशानियां लिखी थीं, जो उन्होंने कैसेट बनाए थे, वह सुपर फ्लॉप साबित हो गई थीं।

चने बेच कर बनाई कैसेट

उसके बाद उन्होंने तीसरी कैसेट बनाई जिसके लिए उनके पिता ने किसी तरह चने बेच बेचकर बड़ी मुश्किल से ₹8000 दिए थे और बाकी के पैसे खेसारी लाल यादव ने खुद जहां-तहां से जोड़े थे।

चने बेच-बेच कर खेसारी लाल(Khesari Lal) को पिता ने दिए कैसेट रिकॉर्डिंग के पैसे, 2 बार बर्बाद हुए लेकिन ना मानी हार

आपको बता दें कि खेसारी लाल यादव कभी महाभारत और रामायण में गाने गाते और स्टेज परफॉर्मेंस किया करते थे। जहां से उन्हें कुछ पैसे मिल जाते थे। जो भी स्टेज परफॉर्मेंस करके खेसारी लाल यादव ने बाकी के पैसे बचाए हुए थे, उन सब मिलाकर 25000 में तीसरी कैसेट उन्होंने तैयारी की थी

भोजपुरी स्टार खेसारी लाल यादव(Khesari Lal yadav)

जोकि छपरा, सिवान और गोपालगंज इन तीनों जिलों में खूब बजा था और खेसारी लाल हिट हो गए। इसके बाद से ही उनको काम मिलना शुरू हो गया।

चने बेच-बेच कर खेसारी लाल(Khesari Lal) को पिता ने दिए कैसेट रिकॉर्डिंग के पैसे, 2 बार बर्बाद हुए लेकिन ना मानी हार

खेसारी लाल यादव को पहली सफलता उनकी भोजपुरी एल्बम “माल भेटाई मेला” से मिली। उसके बाद साल 2012 में उनकी पहली फिल्म “साजन चले ससुराल” आई थी और इस फिल्म से वह रातों-रात भोजपुरी फिल्म जगत के स्टार बन गए थे।

चने बेच-बेच कर खेसारी लाल(Khesari Lal) को पिता ने दिए कैसेट रिकॉर्डिंग के पैसे, 2 बार बर्बाद हुए लेकिन ना मानी हार

इस फिल्म में उनके ऑपोजिट स्मृति सिन्हा मुख्य किरदार में नजर आईं थीं। दर्शको द्वारा यह फिल्म काफी पसंद की गई थी।

चने बेच-बेच कर खेसारी लाल(Khesari Lal) को पिता ने दिए कैसेट रिकॉर्डिंग के पैसे, 2 बार बर्बाद हुए लेकिन ना मानी हार

आपको बता दें कि मौजूदा समय में भोजपुरी फिल्म इंडस्ट्री के सुपरस्टार खेसारी लाल यादव की जोड़ी अभिनेत्री काजल राघवानी के साथ हिट मानी जाती है। फिल्मों में दोनों की जोड़ी को दर्शकों द्वारा काफी पसंद किया जाता है।

चने बेच-बेच कर खेसारी लाल(Khesari Lal) को पिता ने दिए कैसेट रिकॉर्डिंग के पैसे, 2 बार बर्बाद हुए लेकिन ना मानी हार

खेसारी लाल यादव ने अपने फिल्मी करियर में कई फिल्मों में काम किया है। जिनमे से साजन चले ससुराल, जान तेरे नाम, देवरा पर मनवा डोले, नागिन, लहू के दो रंग, सपूत, दूध का कर्ज़, संसार, तेरी कसम, कच्चे धागे, बेताब, प्रतिज्ञा 2, जानेमन, लहू पुकारेला, हथकड़ी, साथिया, इंतकाम, दबंग, संघर्ष जैसी फिल्में शामिल हैं।

चने बेच-बेच कर खेसारी लाल(Khesari Lal) को पिता ने दिए कैसेट रिकॉर्डिंग के पैसे, 2 बार बर्बाद हुए लेकिन ना मानी हार

आपको बता दें कि खेसारी लाल यादव बहुत ही जल्द फिल्म लिट्टी चोखा, बापजी, राजा की आएगी बारात और वास्तव में दिखाई देने वाले हैं। वही बिग बॉस 13 में भी खेसारी लाल यादव बतौर कंटेंस्टेंट नजर आए थे।

आपको बता दें कि खेसारी लाल यादव की 11 जून 2006 को शादी हुई थी। उनकी पत्नी का नाम चंदा देवी है। उनकी एक बेटी प्रीति और एक छोटा बेटा ऋषभ है। दोनों बच्चे खेसारी लाल यादव के बहुत प्यारे हैं। वह कभी-कभी बेटी को अपनी फिल्मों के सेट पर भी ले जाया करते हैं।

Latest articles

फरीदाबाद कालीबाड़ी में हुआ निशुल्क मेगा स्वस्थ जाँच शिविर का आयोजन

30 September 2022 को फरीदाबाद कालीबाड़ी सेक्टर 16 के प्रांगण में एक निशुल्क मेगा...

पंडित सुरेंद्र शर्मा बबली की भतीजी भानुप्रिया पराशर ने किया फरीदाबाद का नाम रोशन, इसरो में हुआ चयन

फरीदाबाद, 30 सितंबर। ओल्ड फरीदाबाद के बाढ़ मोहल्ले में रहने वाली भानुप्रिया पराशर का...

आप जिला अध्यक्ष धर्मबीर भड़ाना ने एनआईटी-86 के शमशान घाट में बैठकर किया प्रदर्शन

श्मशान घाट के सीवर का पानी पीने को मजबूर है एनआईटी 86 के लोग...

फरीदाबाद की बेटी ने रचा इतिहास, बोलने और सुनने में नहीं हैं सक्षम, लोगों को चौकाया वकील बनकर

भारत में जहाँ लोग अपने लक्ष्य को हासिल करने के लिए दिन रात एक...

More like this

फरीदाबाद कालीबाड़ी में हुआ निशुल्क मेगा स्वस्थ जाँच शिविर का आयोजन

30 September 2022 को फरीदाबाद कालीबाड़ी सेक्टर 16 के प्रांगण में एक निशुल्क मेगा...

पंडित सुरेंद्र शर्मा बबली की भतीजी भानुप्रिया पराशर ने किया फरीदाबाद का नाम रोशन, इसरो में हुआ चयन

फरीदाबाद, 30 सितंबर। ओल्ड फरीदाबाद के बाढ़ मोहल्ले में रहने वाली भानुप्रिया पराशर का...

आप जिला अध्यक्ष धर्मबीर भड़ाना ने एनआईटी-86 के शमशान घाट में बैठकर किया प्रदर्शन

श्मशान घाट के सीवर का पानी पीने को मजबूर है एनआईटी 86 के लोग...