HomeGovernmentरोडवेज बस पर कोरोना वायरस का डाका, सोशल डिस्टेंस की आड़ में...

रोडवेज बस पर कोरोना वायरस का डाका, सोशल डिस्टेंस की आड़ में घाटे से जूझ रहा रोडवेज विभाग

Published on

कोरोना वायरस के चलते देशभर में लॉक डाउन लागू होने के उपरांत यातायात के साधनों पर अंकुश लगा दिया गया था। हालाकि लॉक डॉउन के पांचवे चरण में भले ही हरियाणा सरकार ने रोडवेज बसों को फर्राटे भरने की अनुमति दी, लेकिन रोडवेज विभाग अभी भी आर्थिक तंगी की परिस्थितियों से उभर पाने में नाकामयाब साबित हो रहा है।

क्योंकि दिशा निर्देशों के अनुसार बस में सोशल डिस्टेंस तो बरकरार रखने के बाद ही बस अपनी रूट के लिए रवाना हो सकती है। लेकिन बावजूद सोशल डिस्टेंस के कारण एक बस में कम यात्रियों को बैठाना पड़ता है, जिस कारणवश रोडवेज विभाग को भारी नुकसान पहुंच रहा है।

रोडवेज बस पर कोरोना वायरस का डाका, सोशल डिस्टेंस की आड़ में घाटे से जूझ रहा रोडवेज विभाग

रिपोर्ट अनुसार जून 2019 की अपेक्षा लगभग 88 प्रतिशत कम सफर तय किया है। यहीं नहीं जून 2019 की अपेक्षा आमदनी लगभग 94 प्रतिशत कम हुई है। अप्रैल व मई में तो रोडवेज की बसें ठीक ढंग से बस अड्डे के गेट से बाहर भी नहीं निकल पाई थी।

दरअसल औसतन हर माह रोडवेज विभाग अपनी बसों के माध्यम से 3 से 4 करोड़ रुपए की आमदनी करता था परंतु कोरोना वायरस को फैलने से रोकने के लिए सरकार द्वारा 23 मार्च से लगाए गए लॉकडाउन की वजह से रोडवेज की बसों की सेवाएं पूरी तरह से बंद कर दी गई थी।

रोडवेज बस पर कोरोना वायरस का डाका, सोशल डिस्टेंस की आड़ में घाटे से जूझ रहा रोडवेज विभाग

अप्रैल प्रशासनिक ड्यूटी में ही भेजा गया था। हालांकि मई के अंत में चुनिंदा बसें यात्रियों के लिए भी सड़कों पर उतरनी शुरु हो गई है। 1 जून को मिली लोगों को घरों से बाहर निकलने की सशर्त छूट के बाद उम्मीद की जा रही थी कि अब फिर से रोडवेज की बसें अपनी पूरी क्षमता से सड़कों पर उतर पाएंगी।

इसके लिए विभाग ने शुरुआत में 30 बसों का रोड चार्ट भी तैयार किया था परंतु यात्रियों की कमी की वजह से रोडवेज अपेक्षाकृत अपनी बसों को सड़कों पर नहीं उतार पा रहा है जिसकी वजह से उसे घाटा पड़ रहा है।

3 सवारियां के साथ गुरुग्राम के लिए रवाना हुई बस


मंगलवार को सोनीपत बस अड्डे पर सुबह गुरुग्राम रुट पर महज 3 सवारियां होने की वजह से गुरुग्राम की बस को रद्द करना पड़ा। हालांकि इसके बावजूद दिन भर में विभिन्न रुटों पर रोडवेज ने 26 बसों को चलाया गया जिस तहत सोनीपत से रोहतक, सोनीपत से पानीपत, सोनीपत से गोहाना, सोनीपत से बड़ौत, सोनीपत से बागपत, सोनीपत से कुंडली आदि रुट शामिल थे। यात्रियों की कमी की वजह से हर रोज 20 से 26 बसें की सड़कों पर उतर पा रही है। ऐसे में रोडवेज विभाग की आमदनी भी अपेक्षाकृत कम हो रही है।

यही कारण है कि रोडवेज विभाग घाटे के चलते बसों को सड़क पर उतार रही है। बस में कम यात्री होने के कारण बस का किराया बढ़ाने का निर्णय लिया गया,जिसके बाद आमजन को यह तरकीब कतराने लगी ।

Latest articles

पुलिस का दुरूपयोग कर रही है भाजपा सरकार-विधायक नीरज शर्मा

आज दिनांक 26 फरवरी को एनआईटी फरीदाबाद से विधायक नीरज शर्मा ने बहादुरगढ में...

श्री राम नाम से चली सरकार भूले तुलसी का विचार और जनता को मिला केवल अंधकार (#_बजट): भारत अशोक अरोड़ा

खट्टर सरकार ने आज राज्य के लिए आम बजट पेश किया इस दौरान सीएम...

अरूणाभा वेलफेयर सोसायटी , फरीदाबाद द्वारा आयोजित हुआ दो दिवसीय बसंतोत्सव

अरूणाभा वेलफेयर सोसायटी , फरीदाबाद द्वारा आयोजित दो दिवसीय बसंतोत्सव के शुभ अवसर पर...

आखिर क्यों बना Haryana के टीचर का फॉर्म हाउस पूरे प्रदेश में चर्चा का विषय, यहां पढ़ें पूरी ख़बर

आज के समय में फॉर्म हाउस बनाना कोई बड़ी बात नहीं है, लेकिन हरियाणा...

More like this

पुलिस का दुरूपयोग कर रही है भाजपा सरकार-विधायक नीरज शर्मा

आज दिनांक 26 फरवरी को एनआईटी फरीदाबाद से विधायक नीरज शर्मा ने बहादुरगढ में...

श्री राम नाम से चली सरकार भूले तुलसी का विचार और जनता को मिला केवल अंधकार (#_बजट): भारत अशोक अरोड़ा

खट्टर सरकार ने आज राज्य के लिए आम बजट पेश किया इस दौरान सीएम...

अरूणाभा वेलफेयर सोसायटी , फरीदाबाद द्वारा आयोजित हुआ दो दिवसीय बसंतोत्सव

अरूणाभा वेलफेयर सोसायटी , फरीदाबाद द्वारा आयोजित दो दिवसीय बसंतोत्सव के शुभ अवसर पर...