Pehchan Faridabad
Know Your City

फरीदाबाद के अस्पतालों में कम हो रही है कोरोना मरीजों की संख्या

कोरोना का केहर थमने को तैयार नहीं है | देश में 20 लाख का आकड़ा कोरोना मरीजों का होने वाला है | महामारी का प्रकोप हर जगह है | फरीदाबाद में कोरोना के रोजाना नए मामले तो आ रहे हैं, लेकिन अब कोरोना वायरस का संक्रमण कमजोर पड़ता जा रहा है | अब कोरोना के बिना लक्षण के (एसिम्टोमैटिक) मामले अधिक आ रहे हैं |

कोरोना से राहत का तो नहीं पता कब मिलेगी, लेकिन लोगों के दिलों से महामारी का डर जो गायब हो गया है उस से मुसीबतें जरूर बढ़ेंगी | जिले में एसिम्टोमैटिक मामलों में अस्पताल में भर्ती करवाने की आवश्यकता नहीं हो रही है |

फरीदाबाद की प्रमुख एनआईटी 1 मार्किट में लोगों की इतनी तादाद आती है कि मानों कोरोना उनका कुछ नहीं कर सकेगा | सबसे बड़ी बात बहुत से लोग बिना मास्क के घूमते नजर आते हैं | एसिम्टोमैटिक मामलों में अस्पताल में भर्ती करवाने की आवश्यकता नहीं हो रही है, इसके चलते अब अस्पतालों में कोरोना के मरीजों को कम भर्ती किया जा रहा है, जबकि कोविड केयर सेंटर एवं होम आइसोलेशन में रखे जाने वाले मरीजों की संख्या में लगातार बढ़ोतरी हो रही है |

कोरोना से बचने का राम बाण इलाज शारीरिक दूरी है लेकिन फरीदाबाद वासी इसको बहुत हलके में ले रहे हैं | जिले में कोरोना के सक्रिय मामलों में से महज 19.75 फीसद मरीज अस्पतालों में उपचाराधीन है | 29 जुलाई तक 8295 लोग कोरोना संक्रमित हो चुके हैं | कुल सक्रिय मामलों की संख्या 1646 है | इनमें से 325 मरीज अस्पतालों में उपचाराधीन है, जबकि 1321 लोग होम आइसोलेशन में है |

महामारी से जीता जा सकता है यदि हम सतर्कता दिखाएं | फरीदाबाद में 80.25 प्रतिशत मरीजों को होम आइसोलशन में रखा गया है | अस्पतालों में मरीजों के घटने और होम आइसोलेशन में बढ़ने का सिलसिला जुलाई के मध्य से शुरू हुआ है | कोरोना के केसों में से फिलहाल 2.55 फीसद मरीजों की हालत की गंभीर है, जो अस्पतालों में दाखिल हैं। 1646 सक्रिय मामले में से केवल 42 मरीजों की हालत गंभीर है |

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More