Pehchan Faridabad
Know Your City

हाई सिक्योरिटी नंबर प्लेट नही तो कट सकता है भारी मात्रा में चालान,1अक्टूबर से हो जाये सावधान

सुप्रीम कोर्ट के निर्देश पर दिल्ली से सटे फरीदाबाद जिले में भी हाई सिक्योरिटी नंबर प्लेट( एचएसआरपी) को लेकर अभियान शुरू किया जाए। पुलिस स्टेडियम सख्ती भी करेगी। जिला व पुलिस प्रशासन ने अपने सभी जॉन में ट्रैफिक व पुलिस कर्मियों को आवश्यक दिशा निर्देश जारी कर दिए हैं।

वाहन चोरी की घटनाओं पर लगाम लगाने के उद्देश्य से हरियाणा सरकार ने राज्य में सभी तरह के वाहनों के लिए हाई सिक्योरिटी नंबर प्लेट को अनिवार्य कर दिया है। उसके लिए परिवहन आयुक्त कार्यालय से राज्य के सभी जिला परिवहन अधिकारियों को बकायदा नए सिरे से दिशा निर्देश जारी हो चुके हैं।

परिवहन विभाग ने इस मामले में पुलिस का भी सहयोग मांगा है। नए साल में पुलिस तथा परिवहन विभाग मिलकर हाई सिक्योरिटी नंबर प्लेट के खिलाफ चालान अभियान चलाएंगे।

1 अक्टूबर से कलर कोडेड फ्यूल स्टिकर्स पर भी कार्यवाही की जाएगी। प्रशासन के कड़े फैसले बाद हाई सिक्योरिटी नंबर प्लेट के लिए आवेदन करने वालों की संख्या कई गुना बढ़ गई है। इंग्लिश जहां रोजाना 300 से 350 नंबर प्लेट की बुकिंग होती थी अब यह आंकड़ा बढ़कर 2000 तक पहुंच गया है।

जिले में करीब 2700000 गाड़ियां हैं जिनमें हाई सिक्योरिटी नंबर प्लेट नहीं है। फ्यूल स्टीकर्स वाली गाड़ियों की संख्या करीब चार लाख है। फरीदाबाद से सभी वाहन निर्माताओं के लिए हाई सिक्योरिटी नंबर प्लेट के अनिवार्य कर दिया गया है। इसके लिए शहर में 4 केंद्र भी शुरू किए गए हैं इस काठी का लिंक उत्सव रजिस्ट्रेशन प्लेट प्राइवेट के पास है। कंपनी के एएसएस वीरेंद्र सिंह ने बताया कि जिले में 4 केंद्र हैं।

जहां नंबर प्लेट्स लगाई जाती हैं कोई भी व्यक्ति इन प्लेट्स की बुकिंग व्हीकल डीलर से भी कर सकते हैं जिनमें उन्होंने यह गाड़ी खरीदी है इसमें साथ ही वो ऑनलाइन भी इसकी बुकिंग कर सकते हैं।

यहां चल रहे हैं केंद्र
फरीदाबाद में सभी महान निर्माताओं के लिए हाई सिक्योरिटी नंबर प्लेट फॉर्म अनिवार्य कर दिया गया है। इसके के लिए शहर में 4 केंद्र भी शुरू किए गए हैं। सेक्टर58 मैंने हाल मार्केट के पास केंद्र शुरू किया गया है, गांधी कॉलोनी रेलवे रोड एनआईटी, एनएचपीसी मेट्रो स्टेशन पिलर नंबर 594 के पास, एवं बल्लमगढ़ पंचायत भवन के पास हाई सिक्योरिटी निर्माताओं के लिए केंद्र शुरू किए गए हैं ताकि उन्हें हाई सिक्योरिटी नंबर लेने में किसी भी प्रकार की कठिनाई का सामना ना करना पड़े।

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More