Pehchan Faridabad
Know Your City

ये है भारत की 5 सबसे अमीर महिलाएं जानिए आखिर क्या है इनका नेट वर्थ ।

भारत की कई ऐसी महिलाएं है जिनका नाम अमीर महिलाओं में शामिल है। जी हां बहुत से ऐसे लोगों नहीं पता होगा कि कई ऐसी महिलाएं भी है टॉप 5 अमीरों की सूची में शामिल है।

अक्सर हम सब यही जानते है कि भारत में सबसे ज्यादा अमीर इंसान में मुकेश अंबानी की ही बात होती है। इसके अलावा आज हम आपको बताने जा रहे टॉप 5 अमीर महिलाओं के बारे में।

दरअसल फोर्ब्स ने 2020 की सबसे अमीर लोगों की लिस्ट जारी की है। भारत के लिए जारी की गई सबसे अमीर लोगों की सूची में महिलाएं भी शामिल हैं।

इस सूची में सबसे अमीर भारतीय महिला के रूप में ओपी जिंदल ग्रुप की सावित्री जिंदल को स्थान मिला है, वह अमीर भारतीयों की सूची में 19वें स्थान पर हैं और महिलाओं में सबसे ऊपर हैं।सावित्री जिंदल ओपी जिंदल ग्रुप की प्रमुख हैं। 2019 की तुलना में उनकी संपत्ति 13.8 फीसदी बढ़कर इस साल 42415 करोड़ रुपये की हो गई है।

सावित्री जिंदल जिंदल समूह का संचालन करती हैं. यह स्टील, पावर, सीमेंट और इन्फ्रास्ट्रक्चर के क्षेत्र में काम करती है। जिंदल परिवार की कारोबार के साथ राजनीतिक सक्रियता भी रही है।

किरण मजुमदार शॉ भारत की उन बिलियनएयर्स में से एक हैं जो सेल्फ मेड हैं और जिन्होंने अपनी जिंदगी में सब कुछ खुद ही हासिल किया है। न सिर्फ किरण ने ब्रिउइंग कोर्स (अलग-अलग तरह के अल्कोहल सही तरह से मिलाने की कला) में मास्टर्स किया है बल्कि वो जूलॉजी में डिग्री भी ले चुकी हैं।

ट्रेनी ब्रुअर के तौर पर किरण ने काम किया था और धीरे-धीरे करके किरण ने एक-एक सीढ़ी चढ़ी। वहीं बता दे कि इसी साल उन्होंने 2.38 बिलियन से 4.6 बिलियन डॉलर्स तक अपने नेट वर्थ को बढ़ाया।

भारतीय अमीरों की सूची में शामिल टॉप 5 महिलाओं में शामिल सिर्फ विनोद राय गुप्ता हैं जिनकी संपत्ति में पिछले एक साल में गिरावट आई है। हालांकि वह अमीर भारतीयों की सूची में टॉप 50 में 40वें स्थान पर है और अमीर महिलाओं में तीसरे स्थान पर हैं।

उनकी संपत्ति पिछले साल के मुकाबले 3291 करोड़ रुपये घटकर 25961 करोड़ रुपये पहुंच गई है।विनोद राय गुप्ता हेवेल्स इंडिया की प्रमुख हैं। यह कंपनी इलेक्ट्रिकल और लाइटिंग फिक्सचर्स से लेकर पंखे, फ्रिज और वाशिंग मशीन बनाती है।

फोर्ब्स की सूची के मुताबिक देश के सबसे अमीर महिलाओं में लीना तिवारी चौथे स्थान पर हैं। फोर्ब्स के मुताबिक उनकी संपत्ति 2019 में 14041 करोड़ रुपये से बढ़कर इस साल 21939 करोड़ रुपये पहुंच गई है। इस तरह उनकी संपत्ति में एक साल के भीतर करीब 56.25 फीसदी का उछाल आया है। लीना तिवारी यूएसवी इंडिया की प्रमुख हैं। यूएसवी इंडिया को लीना तिवारी के पिता विठल गांधी ने 1961 में स्थापित किया था। यह कंपनी डाइबिटिक और कार्डियोवैस्कुलर की दवाएं बनाती है।

मल्लिका TAFE की सीईओ हैं और ये भारत का ही नहीं बल्कि दुनिया का तीसरा सबसे बड़ा ट्रैक्टर मेकिंग बिजनेस है। इस ग्रुप को 81 साल पहले एस. अनंतरामकृष्णन ने स्थापित किया था और मल्लिका उनकी भतिजी हैं।

वार्टन यूनिवर्सिटी से डिग्री लेने वाली मल्लिका यू एस बिजनेस काउंसिल, बोर्ड ऑफ AGCO कॉर्पोरेशन-यूनाइटेड स्टेट्स और टाटा स्टील लिमिटेड के बोर्ड का हिस्सा भी हैं।

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More