Homeप्रेरणा : चार साल की उम्र में दोनों हाथ कटे तो मां-बाप...

प्रेरणा : चार साल की उम्र में दोनों हाथ कटे तो मां-बाप ने छोड़ा साथ, अब पैरों से लिखी सफलता की दास्तां

Array

Published on

ईश्वर किसी को बहुत कुछ दे देता है तो किसी से सबकुछ छीन लेता है। इंसान को अपने बुरे वक्त में कभी हार नहीं माननी चाहिए। सुनील कुमार सिर्फ चार साल के थे जब एक हादसे ने उनके दोनों हाथ छीन लिए। मां-बाप को इस घड़ी में उनका साथ देना चाहिए था, लेकिन शायद बच्चे की पूरी जिंदगी में आने वाली कठिनाइयों का सामना करने की हिम्मत उनमें नहीं थी। उन्होंने बच्चे को अस्पताल में उसकी किस्मत पर छोड़ दिया और वहां से चले गये।

उनके माता – पिता इस कठिनाई से लड़ने को तैयार नहीं थे। उन्हें उनकी किस्मत के हाल पर वहां छोड़ दिया गया। सुनील की किस्मत में दर-दर की ठोकरें खाने की बजाय कुछ और ही लिखा था। उनकी किस्मत ने उन्हें एक ऐसे आश्रम में पहुंचा दिया जहां ऐसे विशेष बच्चों को जीवन जीने की सीख दी जाती है। यहां सुनील ने अपने पैरों को हाथ बनाने का हुनर सीखा।

प्रेरणा : चार साल की उम्र में दोनों हाथ कटे तो मां-बाप ने छोड़ा साथ, अब पैरों से लिखी सफलता की दास्तां

हुनर ने उन्हें खुद की पहचान दिलाई। सभी के आज सुनील प्रेरणा बन गए हैं। उन्होंने पैरों की अँगुलियों से न सिर्फ अपने सामान्य कामकाज करना सीखा, बल्कि उन्हीं की मदद से पेंटिंग ब्रश पकड़ना भी शुरू कर दिया। आज वे पैर की अँगुलियों से वो काम कर रहे हैं जो करोड़ों सामान्य लोग भी नहीं कर पाते। अपनी अद्भुत सफलता से सुनील कुमार ऐसे लोगों को प्रेरणा दे रहे हैं जो जिंदगी की परेशानियों के सामने हार मान लेते हैं और गलत राह अपना लेते हैं। 

प्रेरणा : चार साल की उम्र में दोनों हाथ कटे तो मां-बाप ने छोड़ा साथ, अब पैरों से लिखी सफलता की दास्तां

ईश्वर अगर कुछ छीन लेता है तो बहुत कुछ दे भी सकता है। हमें बस उस राह की तलाश करनी होती है जहां ईश्वर ने हमारे लिए कुछ रखा है। सुनील कुमार बताते हैं कि वे पंचकुला हरियाणा के आसपास कहीं रहते थे। एक दिन बिजली की चपेट में आकर वे बुरी तरह घायल हो गये। मां-बाप ने इलाज के लिए उन्हें चंडीगढ़ पीजीआई में भर्ती कराया, लेकिन बिजली की चपेट में बुरी तरह आ जाने के कारण उनके दोनों हाथों ने उनका साथ छोड़ दिया।

प्रेरणा : चार साल की उम्र में दोनों हाथ कटे तो मां-बाप ने छोड़ा साथ, अब पैरों से लिखी सफलता की दास्तां

सुनील की इस हालत पर एक महिला को उन पर दया आई। उन्हीं की मदद से वे मदर टेरेसा हरियाणा साकेत काउन्सिल परिषद में आये। यहीं उनकी जिंदगी ने आकार लेना शुरू कर दिया और आज इस मुकाम तक पहुंची है जहां उन्हें भी खुद पर गर्व महसूस होता है। तब से आज तक यही उनका ठिकाना है। अब सुनील कुमार अपने जैसे लोगों को प्रेरित करना चाहते हैं।

Latest articles

महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस पर रक्तदान कर बनें पुण्य के भागी : भारत अरोड़ा

श्री महारानी वैष्णव देवी मंदिर संस्थान द्वारा महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस के...

पुलिस का दुरूपयोग कर रही है भाजपा सरकार-विधायक नीरज शर्मा

आज दिनांक 26 फरवरी को एनआईटी फरीदाबाद से विधायक नीरज शर्मा ने बहादुरगढ में...

श्री राम नाम से चली सरकार भूले तुलसी का विचार और जनता को मिला केवल अंधकार (#_बजट): भारत अशोक अरोड़ा

खट्टर सरकार ने आज राज्य के लिए आम बजट पेश किया इस दौरान सीएम...

अरूणाभा वेलफेयर सोसायटी , फरीदाबाद द्वारा आयोजित हुआ दो दिवसीय बसंतोत्सव

अरूणाभा वेलफेयर सोसायटी , फरीदाबाद द्वारा आयोजित दो दिवसीय बसंतोत्सव के शुभ अवसर पर...

More like this

महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस पर रक्तदान कर बनें पुण्य के भागी : भारत अरोड़ा

श्री महारानी वैष्णव देवी मंदिर संस्थान द्वारा महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस के...

पुलिस का दुरूपयोग कर रही है भाजपा सरकार-विधायक नीरज शर्मा

आज दिनांक 26 फरवरी को एनआईटी फरीदाबाद से विधायक नीरज शर्मा ने बहादुरगढ में...

श्री राम नाम से चली सरकार भूले तुलसी का विचार और जनता को मिला केवल अंधकार (#_बजट): भारत अशोक अरोड़ा

खट्टर सरकार ने आज राज्य के लिए आम बजट पेश किया इस दौरान सीएम...