Pehchan Faridabad
Know Your City

योग और व्यायाम से बढ़ाएं प्रतिरोधक क्षमता, कोरोना से लड़ने में हो जाएंगे सक्षम

अंतरराष्ट्रीय योग दिवस की तैयारियां एएमयू जिम्नेजियम क्लब की देखरेख शुरू हो गई हैं। एएमयू परिसर में जगह जगह अभ्‍यास कराया जा रहा है। एएमयू जिम्नेजियम क्लब के पूर्व अध्यक्ष प्रोफेसर एफएस शीरानी का कहना है कि कोरोनावायरस जैसी महामारी से बचाव के लिए रोगों से लडऩे की प्रतिरोधक क्षमता को सिर्फ व्यायाम एवं योग से ही बढ़ाया जा सकता है। करोना वायरस से बचाव के लिए पावर योग बहुत ही महत्वपूर्ण है |

उन्होंने यह भी कहा कि लोगों को चाहिए कि वे जिम के अंदर व्यायाम करने से बचें तथा खुले मैदान, पार्क, छत आदि स्थान पर योग क्रियाएं करें जिससे उनका शरीर ताजा और फुर्तीला रहेगा । व्यायाम एवं योग क्रियाओं के समय कम से कम 3 से 4 मीटर की दूरी बनाएं तथा डब्ल्यू एचओ की गाइडलाइन का पालन करते हुए व्यायाम योग के समय समुचित ऑक्सीजन के लिए मास्क लगाने के बाद सचेत रहें।

कोरोना की गाइडलाइन का पालन जरूरी

जिम्नेजियम क्लब के अध्यक्ष प्रोफ़ेसर मजहर अब्बास (हड्डी रोग विशेषज्ञ जेएन मेडिकल कॉलेज) ने कहा कि कोरोनावायरस महामारी से बचाव के लिए जारी गाइडलाइन का पालन सख्ती से करना होगा। एएमयू कर्मी आदि अपना मैट, पानी की बोतल, अपना सैनिटाइजर आदि सहित एक दूसरे से कम से कम 3 मीटर की दूरी पर व्यायाम एवं योग की क्रियाएं करें।

70 वर्षीय मोहम्मद जाहिद बोले, योग से ही हूं स्वस्थ्य

70 वर्षीय रिटायर्ड प्रोफेसर मोहम्मद जाहिद (हड्डी रोग विशेषज्ञ जेएन मेडिकल कॉलेज) ने अपना अनुभव बताया कि व्यायाम और योग का ही कारण है इस आयु में भी मैं अपने आप को पूरी तरह स्वस्थ महसूस करता हूं। वरिष्ठ नागरिकों से एक डॉक्टर के नाते मेरी अपील है कि वह व्यायाम एवं योग विशेषज्ञ की देखरेख में खुले मैदान या खुली छत पर अवश्य करें । योग हर प्रकार की बीमारी से बचाव में बहुत ही लाभदायक है।
एएमयू परिसर में जगह-जगह योगभ्यास AMU जिम्नेजियम प्रशिक्षक मजहर उल कमर की देखरेख में हो रहे हैं। जिसमें योग एवं पावर योग की क्रियाएं प्रमुख रूप से सुबह 6:00 बजे से 7 बजे तक कराई जाएंगी । एएमयू के शिक्षक एवं गैर शिक्षक कर्मचारियों एवं उनके परिवार का कोई भी सदस्य भाग ले सकतें हैं।

योग शिविर में 70 वर्षीय रिटायर्ड गैस शिक्षक कर्मचारी अब्दुल अलीम ,रिटायर्ड कर्मचारी एएमयू जगबीर चौधरी, स्केटिंग कोच अली अकबर, एएमयू छात्रा कुमारी जोहरा, असिस्टेंट डायरेक्टर गेम्स कमेटी अरशद महमूद ,आसिम खान, कुश्ती प्रशिक्षक राकेश चौधरी, सूबेदार मेजर युसूफ खान ,मोहम्मद सरफराज, मोहम्मद गुफरान सहित दो दर्जन लोगों ने योग क्रियाएं की।

महत्वपूर्ण पावर योग करें

कपालभाति प्राणायाम

कपालभाति प्राणायाम करने के लिए सिद्धासन, पद्मासन या वज्रासन में बैठ जाएं और अपनी हथेलियों को घुटनों पर रखें। अपनी हथेलियों की सहायता से घुटनों को पकड़कर शरीर को एकदम सीधा रखें। अब अपनी पूरी क्षमता का प्रयोग करते हुए सामान्य से कुछ अधिक गहरी सांस लेते हुए अपनी छाती को फुलाएं। इसके बाद झटके से सांस को छोड़ते हुए पेट को अंदर की ओर खिंचे। इस प्राणायाम के अभ्यास से पेट को बहुत फायदा होता है और फालतू चर्बी भी कम हो जाती है।

धनुरासन

धनुरासन के अभ्यास से कब्ज, पीठदर्द, पेट की सूजन, थकान और मासिकधर्म के समय होने वाली समस्याएं दूर होती हैं। इस आसन के अभ्यास के लिए सबसे पहले पेट के बल लेट जाएं। अब अपने घुटनों को मोड़कर कमर के पास ले जाएं और अपने तलवों को दोनों हाथों से पकड़ें। अब सांस लेते हुए अपनी छाती को जमीन से ऊपर उठाएं। अब अपने पैरों को आगे की ओर खीचें। अब अपना संतुलन बनाते हुए सामने देखें। इस आसन को करने के लिए थोड़े अभ्यास की जरूरत है इसलिए धीरे-धीरे इसका अभ्यास करें। 15-20 सेकेंड बाद सांस छोड़ते हुए अपने पैर और छाती को धीरे-धीरे जमीन की ओर लाएं।

अनियमित जीवनशैली और खराब खानपान के कारण हर तीसरा व्यक्ति पेट से जुड़ी किसी न किसी समस्या से जूझ रहा है। खराब खानपान और क्रिया-कलाप के अभाव से बच्चों में पेट के कीड़े और खराब पाचन शक्ति की समस्या देखने को मिलती है। इसलिए, योग करें और अपनी जीवनशैली को और अच्छा बनाए |

Written by- Prashant K Sonni

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More